‘पद्मावती’ विवाद गहराया, दीपिका की नाक काटने की धमकी

मुंबई,  संजयलीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावती’ पर गुरुवार को विवाद गहरा गया। फिल्म का विरोध कर रही श्री राजपूत करणी सेना के एक सदस्य ने अभिनेत्री दीपिका पादुकोण की नाक काटने की धमकी दी है। दीपिका पादुकोण इस फिल्म में नायिका की मुख्य भूमिका में है और फिल्म 1 दिसंबर को पूरे भारत में रिलीज होनेवाली है। करणी सेना की ओर से इस दिन भारत बंद का एलान किया गया है।

उधर, उत्तर प्रदेश सरकार ने भी सूचना और प्रसारण मंत्रालय को पत्र लिखकर यह सुनिश्चित करने का आग्रह किया है कि केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड यानी सीबीएफसी की ओर से फिल्म को प्रमाणन प्रदान करते समय लोगों में नाराजगी व अशांति की संभावना को ध्यान में रखा जाना चाहिए क्योंकि इस फिल्म में ऐतिहासिक तथ्यों के साथ छेड़छाड़ की गई है।

इससे पहले गुरुवार को श्री राजपूत करणीसेना के सदस्य महिपाल सिंह मकराणा ने एक वीडियो के जरिये कहा है कि राजपूतों ने कभी नारियों पर हाथ नहीं उठाया लेकिन अगर जरूरत पड़ी तो वह दीपिका के साथ वैसा की करेंगे जैसे लक्ष्मण ने शूर्पनखा के साथ किया था।

वहीं, श्री राजपूत करणीसेना प्रमुख लोकेंद्र सिंह कलवी ने एक प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि उन्होंने 1 दिसंबर को ‘भारत बंद’ की अपील की है।

कलवी ने कहा, “हम लाखों में इकट्ठा होंगे। हमारे पूर्वजों ने खून से इतिहास लिखा है, जिसे हम किसी को काला करने नहीं देंगे। हम 1 दिसंबर को भारत बंद का आह्वान करेंगे। ”

उधर, केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने भी गुरुवार को भंसाली पर हमला किया। उन्होंने ट्वीट करके कहा, “अगर हम पद्मावती का आदर करने की बात करते हैं तो यह हमारी नैतिक जिम्मेदारी कि हम सभी औरतों का आदर करें। ” उन्होंने फिल्म पद्मावती की अभिनेत्री व अभिनेता का अपमान करने की बात को अनुचित व अनैतिक बताया।

उनका कहना था कि फिल्म पद्मावती के निर्देशक और उनके सहयोगी पटकथा लेखक इसकी कहानी के लिए जिम्मेदार हैं। उनको लोगों की भावनाओं व ऐतिहासिक तथ्यों का ख्याल करना चाहिए।

फिल्म की शूटिंग के दौरान श्री राजपूत करणीसेना के सदस्यों ने जयपुर में भंसाली पर हमला कर उन्हें शारीरिक चोट भी पहुंचायी थी। पार्टी के सदस्यों ने महाराष्ट्र में फिल्म के सेट में आग के हवाले कर दिया था।

राजपूत समुदाय के पक्ष में कई संगठन, राजनीतिक दल और लोग भी इस बात को लेकर पद्मावती की रिलीज का विरोध कर रहे हैं कि फिल्म में रानी पद्मावती के बारे में जो कहानी बुनी गयी हैं उसमें ऐतिहासिक तथ्यों को तोड़मराड़ पेश किया गया है।

कांग्रेस पार्टी प्रवक्ता आर.पी.एन. सिंह ने भी कहा है कि फिल्म का निर्माण किसी समुदाय की भावना को ठेस पहुंचाने के लिए नहीं होना चाहिए।

इस बीच फिल्म की अभिनेत्री दीपिका पादुकोण ने आईएएनएस विशेष साक्षात्कार में कहा है कि ऐसा कुछ भी नहीं है जो फिल्म को रिलीज होने से रोक सकता है।

दीपिका ने कहा, “यह डरावनी स्थिति है, बिल्कुल भयभीत करनेवाली। हमने अब तक क्या हासिल किया है और एक राष्ट्र के रूप में हमारी क्या उपलब्धि है। प्रगति के बजाय हम अवनति की ओर उन्मुख हुए हैं।”

उनका कहना था कि वह सिर्फ सेंसर बोर्ड के प्रति जवाबदेह हैं और उनको विश्वास है कि फिल्म को रिलीज कोने से कोई रोक नहीं सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि फिल्म उद्योग का उनको समर्थन मिल रहा है जो इस बात का संकेत है कि यह सिर्फ एक पद्मावती की बात नहीं है बल्कि हमें बड़ी लड़ाई लड़नी पड़ रही है।

भंसाली ने अपनी ओर से साफ किया है कि फिल्म में राजपूत समुदाय राजपूत समुदाय की कोई बुराई नहीं की गई है। साथ ही, सभी धार्मिक भावनाओं को ध्यान में रखा गया है।

फिल्म पद्मावती में शाहिद कपूर और रणवीर सिंह भी मुख्य भूमिका में हैं। इस फिल्म को सीबीएफसी की हरी झंडी का अभी इंतजार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here