सिद्धू की पत्नी तथा बेटे ने अपने पदों के लिए अनिच्छा जतायी

पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने पत्नी नवजोत कौर सिद्धू तथा बेटा करनवीर सिद्धू पर फख्र जताते हुए कहा है कि उनकी पत्नी तथा बेटा अपने -अपने पदों को ज्वाइन नहीं करेंगे । उन्होंने शनिवार को कहा कि श्रीमती सिद्धू को पंजाब वेयरहाउसिंग कारपोरेशन के चेयरपर्सन के पद पर और बेटे को सहायक एडवोकेट जरनल के पद पर नियुक्ति की गई ,लेकिन दोनों ने ही अनिच्छा जतायी है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने जो सम्मान उनके परिवार को बख्शा उसके लिये वे आभारी हैं।सिद्धू ने कहा कि मेरे बेटे को जो पद दिया गया उसके लिये मैं आभारी हूं, लेकिन वह भी इसे ज्वाइन नहीं करेगा। दोनों ने अपनी अनिच्छा जताकर आज मेरा सिर गर्व से ऊंचा कर दिया। मुझे फख्र होता है कि मेरी पत्नी मेरे साथ खड़ी है और उसने मेरे लिये बहुत से त्याग किये हैं ।

श्री सिद्धू ने कहा कि मैं राजनीति में पैसा कमाने नहीं आया और न ही कभी राजनीति को मैंने धंधा माना । करोड़ों रूपये अपनी जेब से संतुष्ट खर्चे लेकिन कभी पांच पैसे की तमन्ना नहीं की । हमने तो ये पद किसी से मांगे भी नहीं थे । चेयरमैन बनाने की बात भी चुनाव से पहले की गई थी । कैप्टन सिंह ने श्रीमती सिद्धू को अमृतसर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ाने की बात कही थी लेकिन वह चुनाव से दूर रहीं क्योंकि मैं उस सीट से विधायक के लिये चुनाव लड़
रहा था।

उन्होंने कहा कि जहां तक विधायकों को चेयरमैन बनाने की बात है तो कोई विधायक इन पदों को लेने के लिये राजी नहीं । मेरी राजनीति धर्म की राजनीति है। सच की राजनीति है। मैने राजनीति में ऐसा कोई काम नहीं किया ,जिससे मेरा सिर शर्म से झुकता। विपरीत परिस्थितियों में भी मेरी ईमानदारी और साफ दिलोदिमाग ने मुझे मजबूत बनाया। मेरी इच्छा पंजाब को उन्नति तथा प्रगति के पथ पर देखने और आगे ले जाने की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here