मोदी धड़ल्ले से झूठ बोल रहे : राहुल

देवदार (गुजरात),  कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि उनकी बातों में अब वजन नहीं रह गया है, क्योंकि वह गुजरात और देश से किए गए वादों पर धड़ल्ले से झूठ बोल रहे हैं। उत्तर और मध्य गुजरात में चुनाव रैलियों को संबोधित करते हुए, राहुल ने 2014 लोकसभा चुनाव के दौरान मोदी द्वारा किए गए वादों को याद दिलाया, जिसमें मोदी ने विदेशों से काला धन वापस लाने और प्रत्येक भारतीय के बैंक खाते में 15 लाख रुपये जमा कराने की बात कही थी।

गांधी ने तंज कसते हुए कहा, “नरेंद्र मोदी ने कहा था कि आपके अपने बैंक खातों में 15 लाख रुपये मिलेंगे, आपको 15 पैसे भी नहीं मिले हैं।”

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने लोगों से पूछा कि क्या पिछले साल नोटबंदी के दौरान पैसा जमा करने के लिए कोई ‘सूट बूट’ वाला शख्स कतार में लगा था।

उन्होंने कहा, “पिछले दरवाजे के जरिए, भारत में सभी चोरों का पैसा मोदीजी की नाक के नीचे से सफेद में तब्दील हो गया।”

गांधी ने यह भी कहा कि मोदी ने 2014 के अपने चुनावी भाषण में वादा किया था कि हर साल दो करोड़ नौकरियों का निर्माण करेंगे और यह सुनिश्चित करेंगे कि किसानों को उनके उत्पाद के लिए सही दाम मिले।

राहुल ने कहा, “क्या ऐसा हो रहा है?” गांधी ने जोर से पूछा। जवाब में भीड़ ने कहा, “नहीं, नहीं।”

गांधी ने तालियों की गड़गड़ाहट के बीच कहा, “प्रधानमंत्री के शब्दों में वजन होना चाहिए। मोदीजी के शब्दों में अब कोई वजन नहीं रहा, क्योंकि वह हर वादे पर झूठ बोल रहे हैं।”

उन्होंने कहा कि लोगों ने यह सब देख लिया है और इस बार जनता धोखा नहीं खाएगी।

गांधी ने दोहराते हुए कहा कि गुजरात विधानसभा चुनाव में हार को लेकर मोदी घबरा और डर गए हैं और इसी कारण वह हर वक्त अपने बयान बदल रहे हैं।

राहुल ने कहा, “मैंने मोदीजी के भाषणों को सुना और उनका विश्लेषण किया। वह दावा करते हैं कि कांग्रेस खत्म हो चुकी है, अगर ऐसा है तो वह आधा से ज्यादा वक्त कांग्रेस की बातें क्यों करते रहते हैं।”

उन्होंने कहा, “मोदी आधा वक्त कांग्रेस के बारे में और आधा भाषण में सिर्फ अपने बारे में बात करते हैं।”

राहुल ने कहा, “अचानक आपकी विकास की लंबी चर्चा गायब हो गई। आपके पास गुजरात में भाजपा सरकार के पिछले 22 सालों की रपट देने के लिए कुछ नहीं हैं। यही कारण है कि आपको इन सबकी जरूरत है, मोदीजी।”

गांधी ने वादा किया, “अगर पार्टी गुजरात की सत्ता में आती है तो हम किसानों के ऋण माफ करने के लिए नीति और शिक्षा व स्वास्थ्य पर सरकार की प्राथमिक जिम्मेदारी सुनिश्चित करने के साथ बेरोजगारी को कम करने की नीति लेकर आएंगे।”

गांधी ने दोहराया, “यह चुनाव मेरे या मोदी के बारे में नहीं है, बल्कि गुजरात और गुजरातियों के भविष्य के लिए है।”

उन्होंने यह भी कहा कि मोदी उनके खिलाफ अभद्र भाषा का प्रयोग करते रहे हैं, लेकिन वह कभी ऐसी भाषा का प्रयोग नहीं करेंगे।

उन्होंने कहा, “प्रधानमंत्री मेरे खिलाफ अभद्र भाषा का प्रयोग करते हैं, लेकिन मैं ऐसा कभी नहीं करूंगा, क्योंकि राहुल गांधी प्रधानमंत्री कार्यालय का सम्मान करता है।”

राहुल ने कहा, “मैं प्रधानमंत्री के खिलाफ एक भी गलत शब्द का प्रयोग नहीं करूंगा। यह हमारी पार्टी, महात्मा गांधी और सरदार पटेल ने हमें सिखाया है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here