मध्यप्रदेश में समान विचारधारा वाले दलों से गठबंधन की सम्भावना तलाश रही है कांग्रेस

कांग्रेस का मुख्य चुनावी नारा,यह बदलाव का समय है और अब समय आ चुका है।

मध्यप्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि मध्यप्रदेश में गठजोड़ के लिए उनकी पार्टी के ‘दरवाजे खुले’ हैं और पार्टियों के साथ गठबंधन में सीटों का बंटवारा ‘गतिरोध’ नहीं बनेगा। उनका यह बयान राज्य में विधानसभा चुनावों से पहले कांग्रेस-बीएसपी के बीच हो रही बातचीत के वक्त आया है।

सिंधिया मध्यप्रदेश में इस साल होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए प्रचार प्रभारी हैं। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि लंबे समय बाद राज्य में शिवराज सिंह चौहान सरकार के खिलाफ सभी पार्टियों के नेता ‘एकजुट’ काम कर रहे हैं।

मध्यप्रदेश में बीएसपी के साथ कांग्रेस के संभावित गठजोड़ के बारे में उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी के ‘दरवाजे खुले हैं’ और वह दूसरी पार्टियों से ‘चर्चा’ के लिए तैयार हैं लेकिन जोर दिया कि यह साफ समझ होनी चाहिए कि अंतिम लक्ष्य क्या है।

उन्होंने कहा, ‘और अगर यह ऐसी सरकार बनाने का लक्ष्य है जो लोगों की सेवा करे तो निश्चित रूप से उन राज्यों में जहां वे सहयोगी पार्टियां मजबूत हैं, उन्हें जगह दी जानी चाहिए, लेकिन इसके साथ ही, बड़े और ज्यादा मजबूत साझेदार को यह तय करना चाहिए कि समूचे गठबंधन को साथ लेकर चलने के लिए बराबर का सम्मान भी उन्हें दी जाए।’

कांग्रेस का मुख्य चुनावी नारा

उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस का मुख्य चुनावी नारा होगा, ‘यह बदलाव का समय है और अब समय आ चुका है।’ उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मिजोरम विधानसभा चुनावों में जीत निश्चित रूप से 2019 चुनावों से पहले कांग्रेस पार्टी की दिशा बदल देगी और उसे ‘बड़ी गति’ मिलेगी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here