जैश-ए-मुहम्मद ने किया बीएसएफ शिविर पर हमला : पुलिस

श्रीनगर, 3 अक्टूबर | जम्मू एवं कश्मीर पुलिस ने मंगलवार को कहा कि यहां बीएसएफ शिविर पर जिन आतंकवादियों ने हमला किया वे जैश-ए-मुहम्मद (जेईएम) आतंकवादी संगठन से जुड़े हुए थे। पुलिस ने कहा कि “जब तक पाकिस्तान हमारा पड़ोसी है” इस तरह के हमले होते रहेंगे। मीडिया को संबोधित करते हुए पुलिस महानिदेशक मुनीर खान ने कहा, “मुझे पूरा यकीन है कि यह हमला जेईएम के आतंकवादियों द्वारा किया गया।”

उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि हमले के लिए वही जिम्मेदार हैं। यह वहीं समूह है, जिसके आतकंवादियों ने इसके पहले पुलवामा शहर में हमला किया था।”

पुलिस महानिदेशक ने कहा कि आतंकवादी संगठन ने जुलाई-अगस्त में भारत में घुसपैठ की थी।

अधिकारी ने कहा, “पाकिस्तान जब तक हमारा पड़ोसी है, ऐसे हमले होते रहेंगे।”

कश्मीर घाटी में पुलिस बल के प्रमुख खान ने इस बात से इनकार किया कि सुरक्षा चूक की वजह से हमला हुआ।

उन्होंने कहा, “जबतक वहां आतंकवाद है, आतकंवादी ऐसे हमले की योजना बनाते रहेंगे। यदि हमने हवाई कार्रवाई की होती तो यह अभियान बहुत पहले ही समाप्त हो सकता था।”

अधिकारी ने कहा, “हमने हवाई कार्रवाई नहीं की, क्योंकि शिविर के आस-पास नागरिकों के आवासीय इलाके थे।”

खान ने कहा कि मंगलवार को आतंकवादियों के खिलाफ की गई कार्रवाई सुरक्षा बलों की विभिन्न शाखाओं के बीच तालमेल का उत्तम उदाहरण था।

उन्होंने कहा कि आतंकवादियों ने फ्रेंड्स एन्क्लेव आवासीय क्षेत्र में प्रवेश किया और उन्होंने शिविर पर हमला करने के लिए यहां से सड़क पार किया।

खान ने कहा कि पुलिस जेईएम के उन कार्यकर्ताओं की पहचान कर रही है, जिन्होंने उन्हें रहने के लिए आश्रय दिया और सुरक्षाबलों के शिविर तक पहुंचाया।

अधिकारी ने कहा, “हम उनकी पहचान कर रहे हैं और उनके खिलाफ कार्रवाई कर रहे हैं।”

श्रीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे के निकट तड़के 4.30 बजे बीएसएफ की 182 बटालियन के शिविर में घुसे आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई में बीएसएफ के सहायक उपनिरीक्षक बी.एस. यादव और जेईएम के तीन आतंकवादियों सहित चार लोग मारे गए और तीन बीएसएफ जवान घायल हुए हैं।

श्रीनगर हवाईअड्डे से सुबह की सभी उड़ानें रद्द कर दी गईं। उड़ानों का संचालन अपराह्न् से बहाल हो गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here