गुजरात में राहुल गांधी पर हमला: काले झंडे भी दिखाए: मोदी-मोदी के नारे

gujrat
गुजरात में बाढ़ प्रभावित स्थिति का जाजा लेने पहुंचे कांग्रेस  उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर हुए हमले के बाद आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति तेज हो गई है। कांग्रेस ने  इस हमले के विरोध में  नरेन्द्र मोदी के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन की घोषणा की है। वहीं भारतीय जनता पार्टी ने कहा कि पार्टी परास्त करने में भरोसा रखती है। कांग्रेस उपाध्यक्ष  की गाडी पर आज गुजरात के बाढ प्रभावित बनासकांठा जिले के धानेरा शहर के उनके संक्षिप्त दौरे के दौरान पत्थर से हमला किया गया जिससे उनके वाहन का कांच टूट गया । हमले में राहुल गांधी बालबाल बच गए। बनासकांठा जिले के एसपी नीरज बडगुजर ने कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भरतसिंह सोलंकी के इस दावे को नकार दिया कि इस दौरान एसपीजी का जवान घायल हुआ है। उन्हांेने कहा कि अज्ञात व्यक्ति ने यह हमला किया है। इस मामले में अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है।  गुजरात सरकार ने इस घटना की निंदा की है तथा घटना की जांच के आदेश दे दिये हैं.

बुलेट प्रुफ नहीं था राहुल गांधी का वाहन

गुजरात के दौरे में राहुल गांधी जिस वाहन में बैठे थे, वह बुलेट प्रुफ नहीं था। राज्य के उप मुख्यमंत्री पर उपमुख्यमंत्री नीतिन पटेल ने कहा कि सरकार ने गांधी को बुलेट प्रुफ वाहन उपलब्ध कराया था, लेकिन वे निजी वाहन से दौरा कर रहे थे। उपमुख्यमंत्री ने दावा किया स्थानीय लोगों  में कांग्रेस के प्रति गुस्सा है। उधर एसपी श्री बडगुजर ने भी कहा कि श्री गांधी, पुलिस और एसपीजी के बार बार के आग्रह के बावजूद बुलेट प्रूफ कार छोड कर निजी वाहन में बैठकर  जा रहे थे। वह अचानक गाडी रोक कर अनजान लोगों  से बात भी कर रहे थे जो सुरक्षा की दृष्टि से ठीक नहीं है। उनके वाहन पर पीछे से किसी अज्ञात शख्स ने पत्थर फेका और इससे कोई घायल नहीं हुआ।
पत्थरबाज भाजपा कार्यकर्त्ता थे:- कांग्रेस का आरोप
  श्री गाँधी  के साथ मौजूद कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अर्जुन मोढवाडिया ने बताया कि उनके नेता जब स्थानीय लाल चौक पर एक सभा के बाद स्थानीय हवाई अड्डे पर बने हेलीपैड की ओर जाने के लिए निकल रहे थे तभी भाजपा की युवा इकाई के स्थानीय अध्यक्ष ने एक पत्थर श्री गांधी को लक्ष्य कर फेंका। राहुल गांधी आगे की सीट पर बैठे  थे। पत्थर पीछे के कांच पर लगा जो टूट गया। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष भरतसिंह सोलंकी ने कहा कि इस घटना में एसपीजी का एक कमांडो घायल भी हो गया। पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल ने इस मामले में किसी के भी गिरफ्तार नहीं होने को लेकर सवाल खडे किये। पटेल ने  हमले तथा विरोध के पीछे भाजपा सरकार की शह होने का भी आरोप लगाया।

राहुल गांधी को दिखाए काले झंडे

         इस घटना से से पूर्व राहुल गांधी को  स्थानीय व्यापारियों  और किसानों  का विरोध भी झेलना पडा। राहुल गांधी को काले झंडे भी दिखाए गए। प्रदर्शनकारी मोदी-मोदी के नारे लगा रहे थे। राहुल गांधी राजस्थान से दोपहर दो बजे  हेलीकॅाप्टर से दो बनासकांठा के धानेरा पहुंचे और पहले मालोत्रा गांव जाकर बाढ में बह गये रावताभाई प्रजापति के परिजनों  से मिले। तब तक तो सबकुछ ठीक था पर जब वह पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुरूप यहां बाढ के दौरान पूरी तरह डूब गयी बाजार समिति यानी एपीएमसी यार्ड में  पहुंचे तो वहां मौजूद व्यापारियों  और किसानों  ने काले झंडे दिखाते हुए मोद-मोदी की नारेबाजी शुरू कर दी। पुलिस को  नियंत्रित करने के लिए खासी मशक्कत करनी पडी। कांग्रेस  उपाध्यक्ष नारेबाजी के बीच कुछ ही मिनटो  में वहां से निकल गये। विरोध  करने वालों  का कहना था कि सरकार के राहत कार्य से लोग खुश है। मुख्यमंत्री स्वयं पांच दिन तक बाढ प्रभावित इलाके में रहे। 1500 करोड के विशेष पैकेज की घोषणा भी की गयी है। जबकि कांग्रेस के छह स्थानीय विधायक नदारद है और बेंगलुरु  के रिसार्ट में मौज कर रहे हैं । राहुल गांधी इसके बाद एपीएमसी से एक किमी दूर लाल चौक पर बाढ प्रभावितों  की एक सभा में भाग लेने पहुंचे तो भाजपा के कथित कार्यकर्त्ताओं ने  काले झंडे दिखाये। कांग्रेस समर्थकों  ने उनकी पिटाई कर वहां से भगा दिया। राहुल गांधी ने राहत कार्य को अपर्याप्त बताते हुए कहा कि वे काले झंडों से ड़रने वाले नहीं हैं।गाँधी ने कहा कि भाजपा के लोग डरपोक हैं । उनकी गुजरात और केंद्र  में  सरकार नहीं होने के बावजूद वह राज्यसभा और लोकसभा में सरकार पर बाढ पीडितों  की अधिक से अधिक मदद के लिए दबाव बनायेंगे ।राहुल गांधी का विरोध रूणी गांव में भी हुआ।

राहुल गांधी का दौरा सिर्फ नाटक था

राहुल गांधी बनासकांठा में 24 और 25 जुलाई को भारी वर्षा के कारण आई बाढ के पीडितों  से मिलने पहुंचे थे। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष जीतू वाघाणी ने हमले की निंदा करते हुए कहा कि राहुल गांधी का दौरा सिर्फ नाटक था। इधर, केंद्रीय मंंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रकाश जावडेकर ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के वाहन  पर गुजरात के बनासकांठा में हुए पथराव में पार्टी कार्यकर्ताओं के शामिल होेने के आरोपों  को आज यह कहकर सिरे से खारिज कर दिया कि भाजपा पथराव नहीं परास्त करती है । दूसरी और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हुसैन दलवायी ने घटना की आलोचना करते हुए आरोप लगाया कि यह हमला भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने किया है। भाजपा कार्यकर्ताओं के हौसले बुलंद हैं और उन्हें  भरोसा है कि सरकार भाजपा की है इसलिए उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here