पैनल में जगह पर नियुक्ति नहीं

पैनल में जगह पर नियुक्ति नहीं

मध्यप्रदेश के आईएएस कॉडर में केन्द्रीय प्रतिनियुक्ति के लिए कुल 95 पद आरक्षित हैं। लेकिन केन्द्रीय प्रतिनियुक्ति पर तैनात अधिकारियों की संख्या लगभग तीस है। कॉडर में स्वीकृत क्षमता के गणित के लिहाज से 65 से अधिक अधिकारियों का बोझ मध्यप्रदेश सरकार के खजाने पर है। अधिकारियों का इनपैनलमेन्ट अपर सचिव, सचिव के पद पर होने के बाद भी केन्द्र सरकार उनकी सेवाएं प्रतिनियुक्ति पर नहीं ले रही है। हाल ही में राज्य के छह अधिकारियों का इनपैनलमेन्ट सचिव के पद पर हुआ है। इनमें दो अधिकारी ही वर्तमान में केन्द्र सरकार में पहले से पदस्थ हैं।

ये अधिकारी अलोक श्रीवास्तव एवं विजय श्रीवास्तव हैं। दोनों ही 1984 बैच के अधिकारी हैं। 1984 बैच के ही मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह का इनपैनलमेन्ट भी सचिव के पद पर हुआ है। अ‍ॅन्टोनी डिसा की तरह बसंत प्रताप सिंह को भी केन्द्र सरकार प्रतिनियुक्ति पर नहीं बुला रही है। 1985 बैच के तीन अधिकारी इनपैनल हुए हैं। ये अधिकारी दीपक खांडेकर, राधेश्याम जुलानिया एवं इकबाल सिंह बैंस हैं।

ये तीनों ही अधिकारी अगले साल होने वाली मुख्य सचिव की दौड़ में हिस्सा लेने की तैयारी कर रहे हैं। 1985 के एक अन्य अधिकारी एम. गोपाल रेड्डी की सेवाएं हाल ही में केन्द्र सरकार ने राज्य को वापस कर दी हैं। एक अन्य अधिकारी अनिल श्रीवास्तव को संयुक्त सचिव के वेतनमान में ही नीति आयोग में पदस्थ किया गया है। अनिल श्रीवास्तव की प्रतिनियुक्ति बरकरार रखने में केन्द्र सरकार का सहानुभूतिपूर्ण रवैया दिखाई देता है। जबकि गोपालरेड्डी की वापसी के पीछे पीएमओ की नाराजगी बताई जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here