Homeधर्मकान्हा नगरी के पांच मन्दिरों में जन्माष्टमी मनाने की परंपरा है निराली

कान्हा नगरी के पांच मन्दिरों में जन्माष्टमी मनाने की परंपरा है निराली

Published on

spot_img
spot_img

कान्हा की नगरी मथुरा के पांच मन्दिरों में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी मनाने की निराली परंपरा है। इनमें से चार मन्दिर वृन्दावन में एवं एक मन्दिर नन्दगांव में है। वृन्दावन के प्राचीन राधारमण,राधा दामोदर एव गोकुलानन्द मन्दिर में जन्माष्टमी दिन में मनाई जाती है वहीं वृन्दावन के शाहजी मन्दिर में भी जन्माष्टमी दिन में मनाने की परंपरा चली आ रही है। पांचवां मन्दिर नन्दबाबा मन्दिर नन्दगांव है जहां पर आठ सितंबर को जन्माष्टमी मनाई जाएगी लेकिन इस मन्दिर में इस दिन न तो अभिषेक होगा और ना ही रात 12 बजे के अभिषेक के दर्शन होते हैं। राधारमण मन्दिर मे तो इस दिन मन्दिर के सेवायत लाला को चिरंजीव होने का आशीर्वाद तक देते हैं।


राधारमण मन्दिर के सेवायत आचार्य दिनेश चन्द्र गोस्वामी ने बताया कि चैतन्य महाप्रभु के शिष्य रूप गोस्वामी ने यह परंपरा आज से लगभग 500 वर्ष पहले डाली थी जिसका वर्णन रूप गोस्वामी के ग्रन्थ ’’श्रीकृष्ण जन्म तिथि विधि’’ में मिलता है। वास्तव में जन्माष्टमी श्रीकृष्ण की सालगिरह है तथा रात में लाला को जगाकर उसका जन्म दिन मनाना ठीक नही है इसलिए ही दिन में जन्माष्टमी मनाने के बारे में रूप गोस्वामी, जीव गोस्वामी और गोपाल भट्ट ने दिया था ।शाह जी मन्दिर में सभी परंपराएं राधारमण मन्दिर के अनुरूप ही चलती हैं इसलिए यहां भी जन्माष्टमी दिन में ही मनाई जाती है।

Also Read: अंतिम चरण में पहुंचा अयोध्या के एयरपोर्ट का काम, जल्द ही शुरू होगी विमान सेवा


उन्होंने बताया कि ठाकुर का यमुना जल से अभिषेक करने के बाद 27 मन गाय के दूध, दही,घी तथा बूरा , शहद, औषधि, वनोषधि, सर्वोषधि,महाषधी आदि से अभिषेक किया जाता है सबसे अन्त में केशर से अभिषेक किया जाता है। इसके बाद पर्दा आ जाता है और अन्दर ही ठाकुर का श्रंगार होता है। श्रंगार के बाद ठाकुर को राई लोन उतार कर मन्दिर के सेवायत उन्हें आशीर्वाद देते हैं|


इसके बाद मन्दिर के सेवायत ठाकुर से प्रार्थना करते हैं ’’न धनम, न जनम न सुन्दरी ’’ अर्थात हे प्रभु मुझे कुछ नही चाहिए क्योंकि आप के श्रीचरणों में मेरा अनुराग बना रहे। इस दिन तिल का विशेष भोग लगता है। आरती के बाद सभी भक्तों में प्रसाद का वितरण होता है तथा अभिेषेक समाप्त होने के बाद ही चरणामृत का वितरण मन्दिर के बाहर होता है।
राधा दामोदर मन्दिर में सवा मन गाय के दूध के साथ पंचामृत अभिषेक उसी प्रकार होता है जैसे राधारमण मन्दिर में होता है।


यहां के अभिषेक की विशेषता यह है कि भक्त भी अभिषेक में अपना सहयोग देने के लिए दूध लेकर आते है और मन्दिर के सेवायत को अभिषेक के लिए दे देते हैं भक्तों द्वारा कई मन दूध लाया जाता है तो कुछ भक्त 250 मिलीलीटर तक दूध लाते हैं। एक प्रकार से यहां का अभिषेक सामूहिक अभिषेक होता है जो मन्दिर के सेवायतों द्वारा किया जाता है।
मन्दिर के सेवायत आचार्य बलराम गोस्वामी ने बताया कि इस मन्दिर में अभिषेक के बाद दही और हल्दी मिश्रित कीच सेवायत एक दूसरे पर डालकर श्रीकृष्ण के अवतरण पर खुशी जाहिर करते हैं। इस दिन उस गिर्राज शिला का भी अभिषेक किया जाता है जिसे ठाकुर जी ने स्वयं सनातन गोस्वामी को दिया था।

यहां के कार्यक्रम में विदेशी कृष्ण भक्त भी शामिल होते हैं क्योंकि इस मन्दिर में साधना करने के बाद ए सी भक्ति वेदान्त स्वामी प्रभुपाद को विशेष ज्ञान प्राप्त हुआ था। नन्दगांव के नन्दबाबा मन्दिर में जन्माष्टमी के कार्यक्रम बरसाना और नन्दगांव के सेवायत मिलजुलकर बधाई गायन करते हैं। मन्दिर के सेवायत आचार्य सुशील गोस्वामी ने बताया कि इस मन्दिर में रात 12 बजे का महाअभिषेक परदे के अन्दर ही होता है।

भक्तों को अभिषेक के बाद आरती के दर्शन होते हैं। नन्द महेात्सव में ठाकुर जी टोपी और झबला पहनकर पलना में विराजते हैं। यहां के नन्द महोत्सव में शंकर लीला, मल्ल विद्या, लट्ठे का मेला आदि का आयोजन किया जाता है। दधिकाना लीला होती है तथा खूब खिलौने , मिठाई फल आदि लुटाए जाते है। कुल मिलाकर ब्रजभूमि में भाव की सेवा होने के कारण अलग अलग मन्दिरों में तथा घरों में विभिन्न रूपों में जन्माष्टमी का आयोजन होता है।

Also Read: कालसर्प दोष के कारण हो सकता है जीवन बर्बाद, इन उपायों से मिलेगा छुटकारा

ताज़ा खबर

04 अक्टूबर को प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी एवं लेखक श्यामजी कृष्ण वर्मा का जन्म हुआ था

भारतीय एवं विश्व इतिहास में 04 अक्टूबर की महत्त्वपूर्ण घटनाएं इस प्रकार है।1824-मेक्सिको एक...

दुश्मन की ताकत और प्रौद्योगिकी का मुकाबला करने को तैयार है भारत: वायु सेना प्रमुख

वायु सेना प्रमुख वी आर चौधरी ने आज कहा कि पाकिस्तान और चीन के...

देश में इस वर्ष 3.1 करोड़ 5 जी फोन बिकेंगे: रिपोर्ट

देश में तेजी से 5 जी सेवाओं की पहुंच बढ़ने से इस वर्ष 3.1...

मुद्दों से ध्यान हटाने को पत्रकारों पर बनाया जा रहा है निशाना : ‘इंडिया’

विपक्षी दलों के भारतीय राष्ट्रीय विकासात्मक समावेशी गठबंधन (इंडिया) ने मंगलवार को कहा कि...

संबंधित समाचार

हैदराबाद के लोकप्रिय 21 किलो के बालापुर लड्डू की रिकॉर्ड 27 लाख रुपये में नीलामी

तेलंगाना में हैदराबाद के सबसे लोकप्रिय बालापुर गणेश लड्डू इस साल गणेश मूर्ति विसर्जन...

पूर्वजों की आत्मा की मुक्ति और शांति के लिए कल से शुरू पितृपक्ष

पितरों की आत्मा की मुक्ति और शांति के लिए शुक्रवार से एक पखवाड़े तक...

यहां तथागत बुद्ध के साथ पूजे जाते है ब्रह्मा,विष्णु, महेश

भगवान बुद्ध का महा परिनिर्वाण स्थली कुशीनगर की पहचान यूं तो दुनिया भर में...