एकादशी व्रत का पुण्य सूर्य ग्रहण के दान से भी बड़ा होता है

विष्णु सहस्त्रनाम

एकादशी व्रत 15 अगस्त 2020 को है। यह भाद्रपद कृष्ण पक्ष की एकादशी है। एकादशी व्रत से मिलने वाले कई पुण्य शास्त्रों में वर्णित हैं। सूर्य ग्रहण के समय किए जाने वाले दान से कई गुना पुण्य फल एकादशी व्रत करने मिलता है।
14 अगस्त 2020 शुक्रवार दोपहर 02:02 से 15 अगस्त शनिवार को दोपहर 02:20 तक एकादशी है ।

एकादशी का व्रत, उपवास रखें 15 अगस्त शनिवार को रखें

एकादशी करनेवालों के पितर नीच योनि से मुक्त होते हैं । पितर अपने परिवारवालों पर प्रसन्नता बरसाते हैं यह व्रत करने वालों के घर में सुख-शांति बनी रहती है
व्रत से धन-धान्य, पुत्रादि की वृद्धि होती है ।
कीर्ति बढ़ती है, श्रद्धा-भक्ति बढ़ती है, जिससे जीवन रसमय बनता है ।
भगवान शिवजी ने नारद से कहा है – एकादशी का व्रत करने से मनुष्य के सात जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं।

माह में दो बार एकादशी आती है। एकादशी का व्रत पाप और रोगों को स्वाहा कर देता है। चावल का तो त्याग करना चाहिए।

घर की नकारात्मक ऊर्जा को ऐसे करें दूर

घर और कार्य स्थल की नकारात्मक ऊर्जा को आसानी से दूर किया जा सकता है।

कपूर और फिटकरी इसमें मददगार हैं। गौ मूत्र की चमत्कारी है।

पोंछे के पानी में इन तीनों चीजों को मिला दें। फिर पोछा लगाना चाहिए।

रोज़ सुबह शाम घर मे पोछा लगाये और गंगाजल का पूजन के बाद छिड़काव भी करे ।
फिर चमत्कारिक परिवर्तन देखै।

व्रत के साथ जपना चाहिए हरि विष्णु का नाम

विष्णु सहस्त्रनाम पढ़ना चाहिए। नामावली न हो तो दस माला गुरुमंत्र का जप कर लें।

अगर घर में झगडे होते हों, तो झगड़े शांत हों जायें ऐसा संकल्प करके विष्णु सहस्त्र नाम पढ़ें । परिवर्तन दिखेगा। झगड़े भी शांत होंगे

नींबू का टोटका
अगर किसी जरूरी काम में सफलता चाहते हैं तो एक नींबू के ऊपर 4 लौंग गाड़ दें। ॐ श्री हनुमते नम: मंत्र का 21 बार जाप कर उस नींबू को अपने साथ ले कर जाएं। हनुमानजी ने चाहा तो आपका काम बन जाएगा

पंचांग दिनांक 14 अगस्त 2020

दिनांक 14 अगस्त 2020
दिन – शुक्रवार
विक्रम संवत – 2077 (गुजरात – 2076)
शक संवत – 1942
अयन – दक्षिणायन
ऋतु – वर्षा
मास – भाद्रपद (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार – श्रावण)
पक्ष – कृष्ण
तिथि – दशमी दोपहर 02:01 तक तत्पश्चात एकादशी
नक्षत्र – मॄगशिरा पूर्ण रात्रि तक
योग – व्याघात सुबह 09:48 तक तत्पश्चात हर्षण
राहुकाल – सुबह 08:40 से सुबह 09:32 तक
सूर्योदय – 06:18
सूर्यास्त – 19:08
दिशाशूल – पश्चिम दिशा में

विस्तृत के लिए देखें- http://powergallery.in/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here