चार्जिंग की व्यवस्था नहीं, ई-टैक्सी चलाने की जल्दी में गडकरी

सरकार अब तक इलेक्ट्रिक टैक्सी की बैटरी की चार्जिंग की कोई पुख्ता व्यवस्था नहीं कर पाई। केन्द्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को टैक्सी चलाने की जल्दी है। उनके
सरकार अब तक इलेक्ट्रिक टैक्सी की बैटरी की चार्जिंग की कोई पुख्ता व्यवस्था नहीं कर पाई। केन्द्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को टैक्सी चलाने की जल्दी है। उनके
सरकार अब तक इलेक्ट्रिक टैक्सी की बैटरी की चार्जिंग की कोई पुख्ता व्यवस्था नहीं कर पाई। केन्द्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को टैक्सी चलाने की जल्दी है। उनके निर्वाचन क्षेत्र नागपुर में 24 मई ई-टैक्सी का परीक्षण होगा। टैक्सी महिन्द्रा एन्ड महिन्द्रा की हैं।
टैक्सी का संचालन नगर निगम नागपुर द्वारा किया जाएगा।

मोदी सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना

नितिन गडकरी ने कहा कि हम इस परियोजना को जल्दी शुरू करना चाहते थे, लेकिन चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने में कुछ परेशानियां आ रही थीं।
इलेक्ट्रिक कार टैक्सी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन  सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजनाआंे मंे से एक है। यह यूएनडीपी के मिलेनियम लक्ष्यांे का हिस्सा है। इसके जरिये देश में बढते प्रदूषण की समस्या से निपटने में भी मदद मिलेगी।

कम होगा प्रदूषण

सडक मंत्रालय पिछले एक साल से वाहनांे में प्रदूषण कम करने वाली प्रौद्योगिकियांे पर काम कर रहा है। मंत्रालय द्वारा सांसदांे के लिए एक इलेक्ट्रिक बस भी चलाई जा रही है। 5,763 करोड रूपए की पूर्वी पेरिफेरल एक्सप्रेस वे परियोजना का उद्देश्य दिल्ली को भीडभाड मुक्त करना है।
यह देश की पहली 135 किलोमीटर की हरित सडक होगी, जिसमें पूरी तरह सौर पैनलांे से रोशनी की जाएगी और उसमें आधुनिक यातायात प्रणाली होगी। यह एक्सप्रेस वे सोनीपत, बागपत, गाजियाबाद, गौतमबुद्ध नगर, फरीदाबाद और पलवल  से होकर गुजरेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here