Home Authors Posts by अमन तिवारी

अमन तिवारी

54 POSTS 0 COMMENTS

व्यापम घोटाले में जेल जा चुके संजीव सक्सेना को कांग्रेस ने बनाया महासचिव

congress mahasachiv sanjiv saxena

व्यापम घोटाले में जेल जा चुके संजीव सक्सेना को कांग्रेस ने महासचिव बना दिया है. यह जानकारी कांग्रेस उपाध्यक्ष चंद्रप्रभाष शेखर ने दिया है. सक्सेना को कांग्रेस का महासचिव बनते ही चारो तरफ हंगामा मच गया.

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के वक्त कांग्रेस ने व्यापम घोटाले को लेकर भाजपा को जम कर घेरा था, वहीं अब खुद कांग्रेस ने व्यापम घोटाले में आरोपित सक्सेना को महसचिव् बना दिया। बता दें कि संजीव सक्सेना को व्यापमं घोटाले में उन्हें जेल भेजा गया था, बाद में हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बाद वे जेल से बाहर आए थे.

मप्र में 6 बजे तक 74.61 प्रतिशत मतदान

mp election voting percentage

मध्य प्रदेश 230 विधानसभा सीटों के चुनाव का परिणाम भले ही 11 दिसम्बर को आएगा लेकिन उसकी स्क्रिप्ट आज लिखी जा चुकी है. प्रदेश में 6 बजे तक  लगभग 74. 61 प्रतिशत मतदान हुए हैं. वहीं चुनाव आयोग की माने तो अभी ये आकड़ें एक या दो प्रतिशत और भी बढ़ सकते हैं.

चुनाव में कुल 5,04,95,251 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे. इनमें 2,63,01,300 पुरुष, 2,41,30,390 महिलाएं एवं 1,389 थर्ड जेंडर मतदाता शामिल हैं.

बदली गई मशीनें

मुख्य निर्वाचन अधिकारी BL कांताराव ने बताया कि प्रदेश में 883 मशीनें ख़राब होने की वजह से बदली गई. इनमें 1545 वीवीपैट बदले गए, 383 कंट्रोल यूनिट और 563 वैलेट पेपर बदले गए हैं।

मध्यप्रदेश की वह विधानसभा जहां के 35 हजार मतदाता पलायन कर चले गए हैं महाराष्ट्र

पलायन हुए 35 हजार मतदाता

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए आज यानि 26 नवम्बर की शाम 5 बजे तक चुनाव प्रचार थम जायेगा. सभी दल के नेता चुनाव जीतने के लिए एड़ी चोटी लगा दिए हैं. लगभग हर एक गांव में जा-जा कर लोगों से वोट मांगने की अपील भी कर चुके हैं.

इन सबके अलावा मध्य प्रदेश में एक विधानसभा क्षेत्र ऐसा भी है जहां से लगभग 35 हजार लोग दूसरे राज्य में पलायन कर चुके हैं. उन पलायन कर चुके लोगों को वापस लाने को लेकर स्थानीय नेताओं की मुश्किलें बढ़ गई हैं. दरअसल ये बैतूल जिले का भैंसदेही विधानसभा क्षेत्र है. जो की महाराष्ट्र- मध्यप्रदेश की सीमा पर स्थित है. इस विधानसभा क्षेत्र से अब तक लगभग 35 हजार वोटर्स बेरोजगारी के कारण महाराष्ट्र में पलायन कर गए हैं. जिनको 28 नवम्बर को होने वाले मतदान के लिए वापस लाना सभी स्थानीय दल के नेताओं के लिए चिंता का विषय बना हुआ है. ये महाराष्ट्र सीमा से सटे हुए गांव के लोग हैं जिसमें खोकई से लेकर मेघा, चिठ्ठाणा, कोथलकुंड, सावलमेंढ़ा, तेढ़ीइमली, काकड़पानी, उदामा, निरोगमगी, येरापुर, जिरी, डेडवा कुंड, मालेगांव को लेकर और कई गाँव शामिल है.

पलायन करने की वजह

पलायन करने वाले लोगों की माने तो वे सब दो जून की रोटी के लिए सारा घर बार छोड़कर जाते हैं और त्योहारों पर ही वापस आते हैं. इसके पीछे का कारण है गांव में काम नहीं है अगर मिलता भी है तो दिन भर बहाए गए पसीने के बदले में सूखी रोटी ही नसीब हो सकती है. जिले में महिलाओं को 100 तो पुरुषों को 150 रुपया मिलता है. महाराष्ट्र में यह मेहनताना दो गुना से अधिक है.

विधायक रहते हैं 110 किलोमीटर दूर

भैंसदेही क्षेत्र चारो ओर पहाड़ी से घिरा हुआ क्षेत्र है. यह अनूसूचित जनजाति वर्ग के लिए आरक्षित है. यहां के वर्तमान विधायक भाजपा के महेन्द्र सिंह चौहान हैं. विधायक महोदय क्षेत्र से 110 किलोमीटर दूर दामजीपुरा गांव मेें रहते हैं. कभी-कभी ही विधायक जी इस क्षेत्र में आते हैं. क्षेत्रवासियों को अगर कोई समस्या बतानी हो तो पहले 110 किलोमीटर का सफर तय करना पड़ता है.

बता दें कि यहां से 6 बार कांग्रेस तो 5 बार भाजपा ने चुनाव जीता है. वहीं इस बार भाजपा के महेन्द्र सिंह चौहान और कांग्रेस के धरमु सिंह सिरसाम के बीच मुकाबला हो रहा है.

स्थानीय नेता कर रहे हैं वापस बुलाने का प्रयास

पलायन कर चुके लोगों को वापस लाने के लिए क्षेत्र के स्थानीय नेता मिलकर प्रयास कर रहे हैं, ताकि वे 28 को मतदान दे सकें. इसके लिए वे गाड़ियों का इंतेज़ाम भी कर रहे हैं. गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में 28 तारीख को वोटिंग होनी है जिसका परिणाम 11 दिसम्बर को आएगा.

भाजपा की बागी विधायक के बिगड़े बोल- भाजपा विधायकों की औकात कुत्तों से भी कम रहती है

pramila SINGH JAYSINGHNAGAR

चुनाव नजदीक आते ही आरोप प्रत्यारोप का दौर भी शुरू हो जाता है। आरोप-प्रत्यारोप के इस दौर में कभी-कभी नेता अपने शब्दों की गरिमा भी भूल जाते हैं और एक विवादित बयान दे देते हैं। ऐसा ही कुछ शहडोल में नवजोत सिंह सिद्धू के सभा में देखने को मिला।

दरअसल जयसिंहनगर की विधायक प्रमिला सिंह ने भाजपा विधायकों की तुलना कुत्तों से कर दी. बुधवार को सिद्धू की सभा को समबोधित करते हुए प्रमिला सिंह ने कहा कि ‘भाजपा विधायकों की औकात कुत्तों से भी कम रहती है। कुत्ता तो भौंक लेता है, लेकिन भाजपा विधायक कुछ भी बोल नहीं पाता है। वह कुछ बोलने की कोशिश भी करता है तो पट्टा खींचकर उसे चुप करा दिया जाता है।’ बता दें कि प्रमिला सिंह भाजपा की बागी और हाल ही में कांग्रेस की सदस्य्ता ली थीं.

जयसिंहनगर से टिकट न मिलने की मलाल को लेकर भाजपा पर जम कर हमला बोला। उन्होंने कहा कि जयसिंहनगर से मुझे टिकट नहीं दिया गया, तो किसी और को टिकट दे देते। बाहरी प्रत्याशी को लाकर चुनाव लड़ाया जा रहा है, क्या यहां के सभी आदिवासी नेता मर गए हैं। उन्होंने कहा भाजपा की करनी और कथनी में बहुत फर्क है। ये महिला सशक्तिकरण की बात करते हैं, लेकिन महिला सशक्तिकरण को रोकने का काम करते हैं। मैं तो इसकी भुक्तभोगी हूं। मैंने पांच साल तक जनता की सेवा की है। जब टिकट की बारी आई तो मक्खी की तरह निकालकर फेंक दिया।

पीएम मोदी की जाति पूछने पर राहुल गांधी ने सीपी जोशी को फटकारा, बोले-पार्टी के आदर्शों के विपरीत

cp-joshi speech on modi

राजस्थान कांग्रेस नेता सीपी जोशी का पीएम मोदी और उमा भारती की जाति पूछना भारी पड़ गया. दरअसल कांग्रेस राष्ट्रिय अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी के आदर्शों के विपरीत बताते हुए जोशी के इस बयान पर उनसे माफ़ी मांगने को कहा, जिसके थोड़ी देर बाद ही जोशी को लोगों से माफ़ी मांगनी पड़ी।

राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘सी पी जोशी जी का बयान कांग्रेस पार्टी के आदर्शों के विपरीत है। पार्टी के नेता ऐसा कोई बयान न दें जिससे समाज के किसी भी वर्ग को दुःख पहुँचे। कांग्रेस के सिद्धांतों, कार्यकर्ताओं की भावना का आदर करते हुए जोशीजी को जरूर गलती का अहसास होगा। उन्हें अपने बयान पर खेद प्रकट करना चाहिए।’

गौरतलब है कि वरिष्ठ नेता सीपी जोशी ने राजस्थान के नाथद्वारा में गुरुवार को एक आमसभी संबोधित की थी। सभा को सम्बोधित करते हुए जोशी ने कहा था कि आपको पता है कि पीएम मोदी और उमा भारती किस जाति के हैं। इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा था कि धर्म के बारे में बोलने का अधिकार केवल ब्राह्मण के पास ही है। लेकिन आपको पता है धर्म के बारे में बात करने वाले इन लोगों की जाति क्या है?

मध्यप्रदेश के सतना जिला में हुआ बड़ा हादसा, 7 बच्चों समेत 8 की मौत

satna school bus accident

मध्यप्रदेश के सतना जिले में एक दिल दहला देने वाला हादसा हो गया। दरअसल सतना के बिरसिंगपुर इलाके में आज सुबह स्कूली गाड़ी और बस के बीच हुई जोरदार टक्कर से 7 बच्चों समेत ड्राइवर की मौके पर मौत हो गई। और 6 लोग गंभीर बताये जा रहे हैं।

कैसे हुआ हादस

जानकारी के मुताबिक गुरुवार की सुबह करीब 9 बजकर कुछ मिनट पर लकी कान्वेंट स्कूल की बोलेरो उज्जैनी मोड़ के पास पहुंची तो सामने से आ रही सवारी बस की आमने-सामने की टक्कर हो गई। आस -पास मौजूद लोगों के मुताबिक़ टक्क्र इतनी भीषड़ थी कि स्कूल का वाहन 30 फिट हवा में उछलकर गोते लगाते हुए सड़क के किनारे बनी खाई में गिर गया। इस हादसे में 8 बच्चे गंभीर रूप से घायल हुए हैं साथ ही बस में सवार यात्री भी घायल हो गए हैं। घयलों को उपचार के लिए बिरसिंहपुर शासकीय अस्पताल पहुंचाया गया है।

2 लाख की राहत राशि

सतना कलेक्टर ने हादसे में मारे गए बच्चों के परिजनों को दो लाख तथा घायलों के परिजनों को 50 हजार की राहत राशि देने की घोषणा की है। वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट के जरिये कहा, ‘सतना सड़क हादसे की खबर से स्तब्ध हूं, मन दुखी है। हादसे में हताहत बच्चों को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। पीड़ित परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं। प्रशासन को आवश्यक दिशा निर्देश जारी कर दिए हैं। ईश्वर से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्माओं को शांति प्रदान करें।’

नेताओं के ट्वीट्स

40 दिन 40 साल: कमलनाथ ने किसानों की मौत को लेकर पूछा पंद्रहवां सवाल

40 दिन 40 सवाल

40 दिन 40 साल पूछने की कड़ी में कांग्रेस मध्यप्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने शिवराज सरकार से पंद्रहवां सवाल पूछा है. पंद्रहवें सवाल में कमलनाथ ने पूछा कि, ‘शिवराज जी, किसानों को तो उतार दिया मौत के घाट, अब खेती को क्यों पहुँचा रहे हो आघात ?’

सवाल नंबर पंद्रह –

मध्यप्रदेश में खेती पर संकट के बादल छा रहे हैं ,
मोदी जी अपनी रिपोर्ट में बता रहे हैं ।
शिवराज जी, किसानों को तो उतार दिया मौत के घाट ,
अब खेती को क्यों पहुँचा रहे हो आघात ?

1) मोदी सरकार ने मध्यप्रदेश की खेती पर 24 सितंबर 2018 को एक रिपोर्ट जारी की है। उसके मुताबिक मध्यप्रदेश में 2011 से 15 के बीच किसानों की संख्या 11लाख़ 31 हज़ार ,अर्थात 12.74% बढ़ गई ,और खेती का रकबा 1 लाख़ 66 हज़ार हेक्टेयर कम हो गया ।

2) मप्र में गंभीर संकट यह पैदा हुआ कि 1 हेक्टेयर से कम खेती करने वाले छोटे किसान 24.25 % बढ़ गए और छोटी खेती अर्थात 1 हेक्टेयर से छोटे खेत 23.85% बढ़ गए

3) मप्र में अनुसूचित जाति के बड़े किसान मामा राज में बीते पाँच सालों में 36% कम हो गए और उनकी खेती का रकबा 35 % कम हो गया

4) आदिवासी भाइयों में बड़े किसानों की संख्या 26% कम हो गई और उनकी खेती का रकबा 28% कम हो गया ।

5) मध्यप्रदेश में छोटे और मंझोले किसानों का प्रतिशत बढ़कर 75.57% हो गया,जो बेहद चिंता जनक है ।

6) मध्यप्रदेश में छोटी और मझौली खेती चिंताजनक रूप से 34% से बढ़कर 39% हो गई है, अर्थात किसानों की लागत का बढ़ना और मुनाफ़ा कम होना।

7) मध्यप्रदेश में मार्जिनल किसान के पास एवरेज खेत मात्र 0.49 हेक्टेयर है,जो बेहद चिंताजनक है ।

8)यह तथ्य रोंगटे खड़े कर देने वाला है कि व्यक्तिगत खेती की श्रेणी में मप्र के मार्जिनल किसानों के पास खेती का रकबा मात्र 0.38 हेक्टेयर है और साझा खेती में यह मात्र 0.40 हेक्टेयर है
9)मामा,की किसान पुत्र के रूप में जैसे जैसे ब्रांडिंग हुई,वैसे वैसे खेती और किसान समाप्त होते गए

-40 दिन 40 सवाल-

“मोदी सरकार के मुँह से जानिए,
मामा सरकार की बदहाली का हाल।”

“हार की कगार पर मामा सरकार”

भारतीय जनता पार्टी में बगावती सुर, ये बड़े नेता छोड़ सकते हैं पार्टी

भारतीय जनता पार्टी की पहली सूची जारी होते ही बगावत के सुर दिखने शुरू हो गए हैं. सूत्रों के मुताबिक आज भाजपा पार्टी के कई बड़े नाम पार्टी को अलविदा कह सकते हैं. इसमें कार्यकर्त्ता से लेकर कई बड़े नेता भी शामिल हो सकते हैं. बता दें कि 177 की पहली सूची में भाजपा ने कई नेताओं के टिकट काट दिेए जिसके बाद ये विरोध के सुर उठने लगे हैं.

जगह-जगह पर विरोध प्रदर्शन 

  • नागदा में केंद्रीय मंत्री थावरचंद गेहलोत के घर का महिदपुर विधायक बहादुर सिंह चौहान के पक्ष में भाजपा कायकताओं ने घेराव किया। लगभग 500 नागदा पहुंचे।
  • मंत्री कुसुम महदेले को टिकट न मिलने की वजह को लेकर पहुंचीं सीएम हाउस। सीएम से करेंगी मुलाकात।
  • हुज़ूर में भी टिकट बंटवारे के बाद मची उथल पुथल। बता दें कि बीजेपी से टिकट की दावेदारी कर रहे जिला पंचायत सदस्य माखन सिंह राजपूत निर्दलीय नामांकन भर सकते हैं।
  • खंडवा देवेंद्र वर्मा के विरोध में लोगों ने मुंडन करवाया।
  • भोपाल गोविंदपुरा सीट पर कृष्णा गौर को टिकट न मिलने को लेकर कई महिला कार्यकर्ता विरोध प्रदर्शन कर रही हैं।
  • सैलाना विधायक संगीता चारे भाजपा से टिकट कटने के बाद निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान किया।
  • रतलाम में टिकट कटने से पूनम सोलंकी ने भाजपा से इस्तीफा दिया। पूनम टिकट की मांग कई दिनों से कर रहीं थी लेकिन उकी जगह दिनेश मकवाना को दे दिया गया। वहीं पिपलोदा नगर परिषद अध्यक्ष श्याम बिहारी पटेल ने पार्टी के फैसले के खिलाफ जाकर निर्दलीय चुनाव लड़ने की बात कही है।
  • भोपाल बीजेपी दफ्तर में जमकर हंगामा। बाई साहब के समर्थनमें हुआ हंगामा। समर्थक का आरोप पैराशूट नेता नहीं चलेंगे। बता दें कि बाई साहब की जगह केपी यादव को भाजपा ने टिकट दिया।
  • टीकमगढ़ के विधायक केके श्रीवास्तव ने प्रभात झा पर लगाए गंभीर आरोप। उन्होंने कहा रूपये लेकर बांटे गए टिकट।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साले संजय सिंह ने भाजपा छोड़ कांग्रेस में हुए शामिल। शामिल होते ही संजय सिंह ने भाजपा पर लगाया वंशवाद का आरोप।

कांग्रेस के पूर्व सांसद और दिग्विजय सिंह के करीबी प्रेमचंद गुड्डू भाजपा में शामिल

senior congress leader premchand guddu join bjp

कांग्रेस के पूर्व सांसद और दिग्विजय सिंह के करीबी माने जाने वाले प्रेमचंद गुड्डू भाजपा में शामिल हो गए हैं. आज शुक्रवार की शाम दिल्ली स्थित भाजपा कार्यालय में सदस्यता ली. गौर करने वाली बात है कि गुड्डू के सदस्यता लेने के दौरान केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के साथ थावरचंद गहलोत भी मौजूद थे. बता दें कि उज्जैन जिले की घट्टिया सीट से गुड्डू और गहलोत चुनावी मैदान में आमने सामने रहते थे. 

सूत्रों की मानें तो प्रेमचंद गुड्डू कांग्रेस में साइड लाइन होने की वजह से पिछले कई दिनों से परेशान चल रहे थे. इसलिए उन्होंने भाजपा में शामिल होने का फैसला किया. प्रेमचंद गुड्डू उज्जैन से सांसद रह चुके हैं इसके बावजूद भी उज्जैन में नियुक्तियों के दौरान उन्हें नजरअंदाज किया गया. सभी पद कमलनाथ के करीबी को दे दिया गया. जिस वजह से गुड्डू काफी नाराज चल रहे थे. हालांकि इस मामले पर दिग्विजय सिंह ने गुड्डू का साथ भी दिया था लेकिन कमलनाथ ने पद देने से इंकार कर दिया. यही कारण है कि गुड्डू और कमलनाथ की बिलकुल नहीं बनती.

कैलाश विजयवर्गीय ने दिलाई सदस्यता

प्रेमचंद गुड्डू के भाजपा में शामिल होने के संकेत भाजपा के राष्‍ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने पहले ही दे दिया था. विजयवर्गीय ने एक टीवी चैनल को बताते हुए कहा था कि आज शाम तक बड़ा ‘धमाका’ करने वाले हैं, उनके इस ऐलान से कांग्रेस को झटका लगेगा. बता दें कि कैलाश विजयवर्गीय ने ही गुड्डू को सदस्य्ता दिलाई.

उज्जैन जिले की घट्टिया विधानसभा सीट से लड़ सकते हैं चुनाव

बहरहाल, प्रेमचंद गुड्डू का भाजपा में शामिल होने से इस बात का अंदाजा लगाया जा रहा है कि उज्जैन जिले की घट्टिया विधानसभा सीट से चुनाव लड़ सकते हैं. क्योंकि जैसे ही प्रेमचंद ने भाजपा में शामिल हुए वैसे ही भाजपा मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि, ‘घट्टिया विधानसभा सीट से पहली सूची में उम्मीदवार का नाम त्रुटिवश जारी हो गया है. अभी इस सीट पर उम्मीदवार का निर्णय नहीं हुआ है. अगली सूची में इस विधानसभा क्षेत्र के लिए उम्मीदवार की घोषणा की जाएगी.’

तीन मंत्री और 27 विधायकों के साथ इनके भी कटे हैं टिकट

bjp cut 3-ministers-and-27-mla-tickets-in first list

भाजपा ने मध्य प्रदेश चुनाव के लिए अपनी पहली सूची जारी कर दी है. 177 प्रत्याशियों की पहली सूची में भाजपा ने तीन मंत्री और 27 विधायकों का टिकट काटा है. बता दें कि पहली सूची जारी करने से पहले करीब दस से ज्यादा बार बड़े नेताओं के साथ मीटिंग हुई तब जाकर ये सूची जारी की गई.

तीन मंत्री का कटा टिकट

टिकट सूची में वन मंत्री गौरीशंकर शेजवार, राज्यमंत्री माया सिंह और जल संसाधन मंत्री हर्ष सिंह. माया सिंह की जगह ग्वालियर पूर्व से सतीश सिकरवार को टिकट दिया गया है. बता दें कि सतीश सिकरवार अभी पार्षद भी हैं.

कुछ के टिकट कटे तो कुछ विधायकों / मंत्री के क्षेत्र बदलकर टिकट दिए गए

1)सबलगढ़ -मेहरबान सिंह रावत का टिकट कटा, सरला रावत को मिला
2) सुमावली -सत्यपाल सिंह का टिकट कटा, बसपा से आए अजबसिंह को मिला
3) ग्वालियर पूर्व से -मंत्री माया सिंह का टिकट कटा, सतीश सिकरवार को मिला
4) सेवढ़ा – प्रदीप अग्रवाल का कटा, राधेलाल को मिला
5) गुना -पन्ना लाल शाक्य का कटा, गोपीलाल जाटव को मिला
6) अशोकनगर -गोपीलाल जाटव के बदले लड्डू राम कोरी
7) सुरखी – पारूल साहू का कटा, सांसद के बेटे सुधीर यादव को मिला
8) टीकमगढ़ – के के श्रीवास्तव का कटा,राकेश गिरी को मिला
9) पृथ्वीपुर -अनिता नायक का कटा, अभय यादव को मिला
10) छतरपुर -ललिता यादव मंत्री यहां से बदला, अर्चना सिंह को मिला
11) मलहरा से -रेखा यादव का कटा, ललिता यादव को मिला
12) हटा -उमा खटीक का कटा, पीएल टंटवे
13) गुन्नौर -महेन्द्र सिंह का कटा, राजेश वर्मा को मिला
14 ) रामपुर -हर्ष सिंह ( मंत्री) टिकट कटा, विक्रम सिंह को मिला
15 ) सेमरिया – नीलम मिश्रा कटा, के पी त्रिपाठी को मिला
16 ) त्यौथर -रमाकांत तिवारी का कटा, श्यामलाल द्विवेदी को मिला
17 ) देवसर -राजेन्द्र मेश्राम का टिकट कटा, सुभाष वर्मा को मिला
18 ) जयसिंहनगर -प्रमिला सिंह का कटा, जयसिंह को मिला
19 ) जैतपुर -जयसिंह मरावी का कटा, मनीषा सिंह को मिला
20 ) बांधवगढ़ -ग्यान सिंह का कटा, शिवनारायण सिंह को मिला
21) बहोरीबंद – प्रभात पांडे के परिवार से प्रणय पांडे को मिला
22) साहपुरा -गंगाबाई धुर्वे की जगह मंत्री ओमप्रकाश धुर्वे
23) जुन्नारदेव -नाथन शाह की जगह आशीष ठाकुर
24 ) आमला -चैतराम मानेकर की जगह योगेश
25 ) घोड़ाडोंगरी -सज्जन सिंह उनके की जगह गीताबाई
26 ) सांची-गौरशंकर शेजवार मंत्री की जगह बेटे मुदित
27 ) विदिशा -शिवराज सिंह की जगह मुकेश टंडन
28 ) आष्टा -रंजीत सिंह गुनवान की जगह रघुनाथ मालवीय
29 ) बागली -चंपालाल देवड़ा की जगह पहार सिंह
30 ) मांधाता -लोकेन्द्र सिंह तोमर की जगह नरेन्द्र सिंह तोमर
31) महेश्वर — मेव राजकुमार की जगह भूपेन्द्र आर्य
32) सेंधवा -रतनसिंह रावजी आर्य की जगह अंतर सिंह आर्य
33) सरदारपुर -वेलसिंह भूरिया की जगह संजय बघेल
34) धरमपुरी -कालुसिंह ठाकुर की जगह गोपाल कनोजे
35 ) घटिया -सतीश मालवीय की जगह अशोक मालवीय
36 ) रतलाम ग्रामीण से — मथुरालाल की जगह दिलीप मकवाना
37 ) सैलाना से -संगीता चारेल की जगह नारायण मेडा
38 ) मनासा से -कैलाश चावला की जगह माधव मारू

39) चॉंदला से जिला पंचायत अध्यक्ष राजेश प्रजापति को मिला है. ये वर्तमान विधायक आरडी प्रजापति के बेटे है.

इनकी सीट बरकरार

  • खुरई से भूपेन्द्र सिंह
  • दतिया से नरोत्तम मिश्रा
  • शिवपुरी से यशोधरा राजे सिंधिया
  • रहेली से गोपाल भार्गव
  • रीवा से राजेन्द्र शुक्ल
  • विजयराघवगढ़ से संजय पाठक
  • नरेला से विश्वास सारंग
  • भोपाल दक्षिण पश्चिम से उमाशंकर गुप्ता
  • बालाघाट से गौरीशंकर बिसेन
  • उज्जैन उत्तर से पारस जैन
  • भोजपुर से सुरेंद्र पटवा
  • सिलवानी से रामपाल सिंह
  • ग्वालियर से जयभान सिंह पवैया
  • मुरैना से रुस्तम सिंह,
  • गोहद ले लाल सिंह आर्य।