राफेल डीलः फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ने किया नया खुलासा,भारत ने अंबानी को बनाया पार्टनर

0
4

राफेल डील को लेकर कांग्रेस मोदी सरकार पर लगातार हमलावर बनी हुई है। इस बीच शुक्रवार शाम को फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के हवाले से आए एक बयान के बाद राफेल डील विवाद को फिर हवा मिल गई है। फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने एक फ्रेंच वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में कहा है कि राफेल डील के वक्त भारत ने फ्रांस सरकार को कहा था कि वो अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस डिफेंस को पार्टनर बनाए। लेकिन अब फ्रांस सरकार ने एक बयान जारी कर कहा है कि इस डील के लिए कंपनी के चुनाव में सरकार की कोई भूमिका नहीं थी। फ्रेंच कंपनी कंपनी दसॉल्ट को कॉन्ट्रैक्ट के लिए भारतीय कंपनी का चुनाव करने की पूरी आजादी थी और कंपनी ने सोच-समझकर फैसला किया।

मोदी जी ने हमारे शहीद सैनिकों के खून का अपमान किया है’ : राहुल गांधी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएम मोदी और अनिल अंबानी पर एक बार फिर तीखा हमला बोलते हुए कहा कि “प्रधान मंत्री और अनिल अंबानी ने संयुक्त रूप से भारतीय रक्षा बलों पर एक सौ तीस हजार करोड़ का सर्जिकल स्ट्राइक किया। मोदी जी, आपने हमारे शहीद सैनिकों के खून का अपमान किया है। आपको शर्म आनी चाहिए। आपने भारत की आत्मा से धोखा दिया है।

एम जे अकबर ने दी सफाई

विदेश राज्य मंत्री एम जे अकबर ने मामले पर सरकार का बचाव करते हुए कहा है कि फ्रांस की सरकार ने फिर से साफ किया है कि सरकारों ने प्राइवेट सेक्टर के किसी भी फैसले में कोई भूमिका नहीं निभाई है। कांग्रेस झूठ की संस्कृति अपनाती है। उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा की कीमत पर खिलवाड़ किया है।

3 बजे कांग्रेस खास प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगी, कई खुलासे करने का दावा

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा है कि कहानियों और परदों के पीछे अब भ्रष्टाचार की सच्चाई नहीं छुप सकती। 3 बजे खास प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कई खुलासे किए जाएंगे।

रक्षा मंत्री ने रद्द किया फ्रांस दौरा

इस बीच रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने फ्रांस का अपना दौरा रद्द कर दिया है। फ्रांस्वा ओलांद का बयान जब सामने आया तो उस वक्त बाद रक्षा मंत्री भारत-मिस्र रक्षा संबंधों को मजबूत बनाने के लिए मिस्र की राजधानी काहिरा में थीं। इसके बाद उन्हें फ्रांस के रक्षा मंत्री के साथ बैठक करने के लिए फ्रांस पहुंचना था। लेकिन बयान के बाद से हो रहे विवाद के चलते उन्होंने अपना फ्रांस दौरा रद्द कर दिया।

फ्रेंच कंपनी का बयान – मेक इन इंडिया के तहत रिलायंस को चुना

राफेल के लिए डील करने वाली फ्रेंच कंपनी दसॉल्ट की तरफ से भी एक बयान जारी किया गया है। कंपनी ने कहा है कि उसने खुद इस डील के लिए रिलायंस डिफेंस को चुना था। कंपनी ने अपने बयान में कहा कि रिलायंस समूह को रक्षा खरीद प्रक्रिया 2016 नियमों के अनुपालन की वजह से चुना गया था। इसमें कहा गया है कि कंपनी ने ‘मेक इन इंडिया’ के तहत रिलायंस डिफेंस को अपना पार्टनर चुना है। उसने कहा, ‘इस साझेदारी से फरवरी 2017 में दसॉ रिलायंस एयरोस्पेस लिमिटेड जॉइंट वेंचर तैयार हुआ। डस्सॉल्ट और रिलायंस ने नागपुर में फॉल्कन और राफेल एयरक्राफ्ट के मैन्युफैक्चरिंग पार्ट के लिए प्लांट बनाया है। ‘

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here