Breaking News
Home / Home Remedies / पंचांग-15 सितंबर 2018,सिंह राशि के जातकों को हो होगी धन की प्राप्ति

पंचांग-15 सितंबर 2018,सिंह राशि के जातकों को हो होगी धन की प्राप्ति

🚩🌞 *सुप्रभातम्* 🌞🚩
📜««« *आज का पंचांग* »»»📜
कलियुगाब्द…………………….5120
विक्रम संवत्……………………2075
शक संवत्………………………1940
मास……………………………भाद्रपद
पक्ष………………………………शुक्ल
तिथी………………………………षष्ठी
दोप 02.50 पर्यंत पश्चात सप्तमी
रवि…………………………दक्षिणायन
सूर्योदय……………….06.13.21 पर
सूर्यास्त……………….06.30.39 पर
सूर्य राशि………………………….सिंह
चन्द्र राशि………………………वृश्चिक
नक्षत्र………………………….अनुराधा
रात्रि 02.45 पर्यंत पश्चात ज्येष्ठा
योग………………………….विषकुम्भ
रात्रि 10.57 पर्यंत पश्चात प्रीती
करण……………………………तैतिल
दोप 02.50 पर्यंत पश्चत गरज
ऋतु……………………………….वर्षा
दिन…………………………..शनिवार

🇬🇧 *आंग्ल मतानुसार* :-
15 सितम्बर सन 2018 ईस्वी ।

🌞 *तिथि विशेष (व्रत/पर्व) :-*
*_श्री बलदेव षष्ठी (हल षष्ठी) :-_*
भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की षष्ठी तिथि को हल षष्ठी कहा जाता है । ‘हल षष्ठी’ के दिन मथुरा मण्डल और भारत के समस्त बलदेव मन्दिरों में भगवान श्रीकृष्ण के बड़े भाई और ब्रज के राजा बलराम का जन्मोत्सव धूमधाम के साथ मनाया जाता है। इस दिन गाय का दूध व दही का सेवन वर्जित माना गया है। इस दिन व्रत करने का विधान भी है।भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की षष्ठी को ‘हल षष्ठी’ पर्व मनाया जाता है। धर्म शास्त्रों के अनुसार इस दिन भगवान शेषनाग द्वापर युग में भगवान श्रीकृष्ण के बड़े भाई बलराम के रूप में धरती पर अवतरित हुए थे। बलराम जी का प्रधान शस्त्र ‘हल’ व ‘मूसल’ है। इसी कारण इन्हें ‘हलधर’ भी कहा गया है। उन्हीं के नाम पर इस पर्व का नाम ‘हल षष्ठी’ पड़ा। इसे ‘हरछठ’ भी कहा जाता है।हल षष्ठी’ के दिन भगवान शिव, पार्वती, गणेश, कार्तिकेय, नंदी और सिंह आदि की पूजा का विशेष महत्व बताया गया है। इस प्रकार विधिपूर्वक ‘हल षष्ठी’ व्रत का पूजन करने से जो संतानहीन हैं, उनको दीर्घायु और श्रेष्ठ संतान की प्राप्ति होती है। इस व्रत एवं पूजन से संतान की आयु, आरोग्य एवं ऐश्वर्य में वृद्धि होती है। विद्वानों के अनुसार सबसे पहले द्वापर युग में माता देवकी द्वारा ‘कमरछठ’ व्रत किया गया था, क्योंकि खुद को बचाने के लिए मथुरा का राजा कंस उनके सभी संतानों का वध

करता जा रहा था। उसे देखते हुए देवर्षि नारद ने ‘हल षष्ठी’ का व्रत करने की सलाह माता देवकी को दी थी। उनके द्वारा किए गए व्रत के प्रभाव से ही बलदाऊ और भगवान कृष्ण कंस पर विजय प्राप्त करने में सफल हुए थे। उसके बाद से यह व्रत हर माता अपनी संतान की खुशहाली और सुख-शांति की कामना के लिए करती है। इस व्रत को करने से संतान को सुखी व सुदीर्घ जीवन प्राप्त होता है। ‘कमरछठ’ पर रखे जाने वाले व्रत में माताएँ विशेष तौर पर पसहर चावल का उपयोग करती हैं।

☸ शुभ अंक………………….6
🔯 शुभ रंग………………..नीला

👁‍🗨 *राहुकाल* :-
प्रात: 09.19 से 10.50 तक ।

🚦 *दिशाशूल* :-
पूर्वदिशा- यदि आवश्यक हो तो उड़द का सेवन कर यात्रा प्रारंभ करें।

✡ *चौघडिया* :-
प्रात: 07.47 से 09.18 तक शुभ
दोप. 12.21 से 01.52 तक चंचल
दोप. 01.52 से 03.23 तक लाभ
दोप. 03.23 से 04.54 तक अमृत
सायं 06.26 से 07.54 तक लाभ
रात्रि 09.23 से 10.52 तक शुभ।

📿 *आज का मंत्र* :-
|| ॐ हेरम्बाय नमः ||

 *संस्कृत सुभाषितानि* :-
वयसि गते कः कामविकारः, शुष्के नीरे कः कासारः।
क्षीणे वित्ते कः परिवारः, ज्ञाते तत्त्वे कः संसारः॥१०॥
अर्थात :-
आयु बीत जाने के बाद काम भाव नहीं रहता, पानी सूख जाने पर तालाब नहीं रहता, धन चले जाने पर परिवार नहीं रहता और तत्त्व ज्ञान होने के बाद संसार नहीं रहता॥१०॥

🍃 *आरोग्यं* :-
*खुशी के लिए सात योग -*

*4. शवासन -*
तनाव कई स्वास्थ्य समस्याओं से जुड़ा हुआ है। शव का अर्थ होता है मृत अर्थात अपने शरीर को शव के समान बना लेने के कारण ही इस आसन को शवासन कहा जाता है। यह न्यूरोलॉजिकल समस्या, अस्थमा, कब्ज, मधुमेह, अपचन से पीड़ित लोगों के लिए फायदेमंद है। इसके अलावा यह मुद्रा आपको गहरी ध्यान देने वाली अवस्था में लाती है, जो ऊतकों और कोशिकाओं की मरम्मत में और तनाव मुक्त करने में सहायता कर सकता है।

⚜ *आज का राशिफल* :-

🐏 *राशि फलादेश मेष* :-
चोट, चोरी व विवाद आदि से हानि संभव है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। स्वास्थ्य पर व्यय होगा। चिंता व तनाव बने रहेंगे। दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं, धैर्य रखें। वाहन व मशीनरी के प्रयोग में सावधानी रखें।

🐂 *राशि फलादेश वृष* :-
भूमि व भवन खरीद-फरोख्त की योजना बनेगी। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। आय में वृद्धि होगी। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। बाहरी सहयोग तथा मार्गदर्शन मिलेगा। प्रसन्नता बनी रहेगी।

👫 *राशि फलादेश मिथुन* :-
संपत्ति के कार्य बड़ा लाभ दे सकते हैं। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। व्यवसाय ठीक चलेगा। परीक्षा व साक्षात्कार आदि में सफलता प्राप्त होगी। लाभ होगा। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी।

🦀 *राशि फलादेश कर्क* :-
लेन-देन में सावधानी रखें। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। विद्यार्थी वर्ग सफलता प्राप्त करेगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। चिंता रहेगी। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा।

🦁 *राशि फलादेश सिंह* :-
यात्रा में सावधानी रखें। क्रोध व उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। दु:खद समाचार प्राप्त हो सकता है। थकान रहेगी। भागदौड़ अधिक रहेगी। दूसरों से अपेक्षा न करें। विवाद को बढ़ावा न दें। जोखिम न लें।

👱🏻‍♀ *राशि फलादेश कन्या* :-
चोट व रोग से कष्ट संभव है। प्रयास सफल रहेंगे। मान-सम्मान मिलेगा। व्यावसायिक लाभ बढ़ेगा। कार्यसिद्धि से प्रसन्नता रहेगी। जल्दबाजी न करें। रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा।

⚖ *राशि फलादेश तुला* :-
रोमांटिक वातावरण बनेगा। थकान महसूस होगी। अतिथि घर आएंगे। व्यय होगा। शुभ समाचार प्राप्त होंगे। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। आत्मविश्वास बढ़ेगा। जोखिम न लें। संपत्ति के कार्य बड़ा लाभ दे सकते हैं।

🦂 *राशि फलादेश वृश्चिक* :-
बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। कार्यक्षेत्र में सफलता मिलेगी। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। प्रमाद न करें। दौड़धूप अधिक रहेगी। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। विवाद न करें।

🏹 *राशि फलादेश धनु* :-
जोखिम व जमानत के कार्य टालें। कुसंगति से बड़ी हानि हो सकती है। स्वास्थ्य पर व्यय होगा। कर्ज लेना पड़ सकता है। चिंता रहेगी। प्रमाद न करें। क्लेश होगा। बुरी सूचना मिल सकती है। स्वास्थ्य कमजोर होगा।

🐊 *राशि फलादेश मकर* :-
कोई बड़ी समस्या आ सकती है। नई आर्थिक नीति बनेगी। प्रतिष्ठा बढ़ेगी। व्यावसायिक लाभ बढ़ेगा। रुके कार्यों में गति आएगी। बेचैनी रहेगी। धैर्य रखें। मेहनत का फल मिलेगा। घर-बाहर पूछ-परख बढ़ेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा।

🏺 *राशि फलादेश कुंभ* :-
जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। नई योजना बनेगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। नए अनुबंध हो सकते हैं। व्यवसाय ठीक चलेगा। प्रसन्नता रहेगी। अतिथियों का आगमन होगा। शुभ समाचार मिलेंगे। आत्मसम्मान बढ़ेगा।

🐋 *राशि फलादेश मीन* :-
पूजा-पाठ में मन लगेगा। सत्संग का लाभ मिलेगा। कानूनी अड़चन दूर होगी। व्यवसाय लाभप्रद रहेगा। जोखिम न लें। कार्यसिद्धि से प्रसन्नता रहेगी। पुराने मित्र व संबंधियों से मुलाकात होगी। उत्साहवर्द्धक खबर मिलेगी।

☯ आज का दिन सभी के लिए मंगलमय हो |

।। 🐚 *शुभम भवतु* 🐚 ।।

🇮🇳🇮🇳 *भारत माता की जय* 🚩🚩

About Dinesh Gupta

Check Also

पंचांग-22 सितम्बर 2018,कन्या राशि के जातकों को परीक्षा व साक्षात्कार आदि में सफलता मिलेगी

     *सुप्रभातम्*  ««« *आज का पंचांग* »»» कलियुगाब्द………………..…..5120 विक्रम संवत्……………………2075 शक संवत्……………………...1940 मास……………………………भाद्रपद पक्ष……………………..……….शुक्ल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *