Breaking News
Home / breaking news / देवास में कोंग्रेसियों में हो रही है सिर फुटव्वल,झाबुआ में भाजपा में विद्रोह

देवास में कोंग्रेसियों में हो रही है सिर फुटव्वल,झाबुआ में भाजपा में विद्रोह

चुनावी चकल्लस

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कमलनाथ के सबसे करीबी माने जाने वाले सज्जन सिंह वर्मा के प्रभाव क्षेत्र वाले देवास जिले में कोंग्रेसियों का झगड़ा पुलिस थाने तक पहुंच गया है। झगड़ा अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव और मध्यप्रदेश के प्रभारी दीपक बाबरिया की मौजूदगी में शुरू हुआ था। अब लोग सड़क पर इस झगड़े का आनंद ले रहे हैं। दीपक बाबरिया पांचोंं विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्त्ताओं की बैठक लेने देवास गए थे।

वहां जिला पंचायत की अध्यक्ष सुमन हाड़ा के पति शिवनारायण हाड़ा का शहर अध्यक्ष मनोज राजानी और ब्लॉक अध्यक्ष रोहित शर्मा से कहासूनी हो गई। बात जातिसूचक शब्दों तक पहुंच गई। शिवनारायण हाड़ा ने कोतवाली थाने में आवेदन देकर एससी,एसटी एक्ट की धाराओं में मामला दर्ज करा दिया। कोतवाली टीआई एमएस परमार के अनुसार फरियादी शिव नारायण पिता रामदयाल हाड़ा ने इस संबंध में आवेदन दिया था।

आवेदन पर आरोपित शहर कांग्रेस अध्यक्ष मनोज राजानी, ब्लॉक अध्यक्ष रोहित शर्मा, पार्षद प्रतिनिधि राहुल पंवार व संतोष मोदी के खिलाफ मारपीट, गालीगलौज, जान से मारने की धमकी शहर कांग्रेस अध्यक्ष मनोज राजानी ने कहा कि मामले की जांच हो जाने दो, दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। सच को कोई झुठला नहीं सकता। यह एक राजनीतिक षड़यंत्र है, मैं इससे डरता नहीं हूं। पहले भी ऐसे कई षड़यंत्र हुए हैं। हाड़ा ने कहा- अगर घटना नहीं हुई तो क्यों नहीं दे रहे सीसीटीवी फुटेज, मुझे मारने के लिए क्यों भेजे लोग?

झाबुआ में भाजपा में विद्रोह की स्थिति

आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र झाबुआ में भाजपा में गुटबाजी इस्तीफों तक पहुंच चुकी है। पार्टी में असंतोष का कारण जिले की कार्यकारिणी है। पार्टी ने फरवरी में मनोहर सेठिया को झाबुआ का जिलाध्यक्ष बनाया था। कार्यकारिणी दो दिन पहले घोषित हुई। सूची आते ही इसमें असंतोष भी सामने आ गया। जिला मंत्री बनाए गए रानापुर मंडल अध्यक्ष ललित बंधवार ने त्यागपत्र दे दिया। उन्हें युवा मोर्चा का जिला प्रभारी भी बनाया गया था। वो अपने पुराने पद पर ही बने रहना चाहते हैं।
दौलत भावसार को हटाकर मनोहर सेठिया को दौलत भावसार के स्थान पर जिलाध्यक्ष बनाया गया था। तब से नई कार्यकारिणी की कवायद चल रही थी।

नई कार्यकारिणी में सबसे ज्यादा ऊहापोह की स्थिति महामंत्री पद को लेकर बनी हुई थी। आखिर में तय किया गया कि दो की जगह तीन महामंत्री बनाए जाएं। पहले से पद पर काबिज प्रफुल्ल बाफना को पद पर यथावत रखा गया। उनके अलावा दो अन्य नामों में प्रवीण सुराणा और श्यामा ताहेड़ को जिम्मेदारी दी गई। कार्यकारिणी में 24 नाम रखे गए हैं। इनके अलावा जिला कार्यसमिति सदस्य में 78 नाम और विशेष आमंत्रित सदस्यों में 23 नेताओं के नाम हैं। 12 मोर्चों के लिए जिला प्रभारी भी बनाए गए।

इधर कार्यकारिणी घोषित हुई वहां दिया इस्तीफा

जिला मंत्री और युवा मोर्चा के जिला प्रभारी बनाए गए ललित बंधवार ने घोषणा के कुछ ही देर बाद अपना त्याग पत्र नए पदों से दे दिया। बंधवार रानापुर से हैं और जिलाध्यक्ष मनोहर सेठिया भी। इसे लेकर ललित बंधवार का कहना है, मैंने रानापुर मंडल अध्यक्ष रहते अपनी पूरी टीम तैयार की। आखिरी तक मेरे कार्यकर्ता हैं। हमने रानापुर नगर पंचायत में बड़ी जीत दर्ज कराई थी। ये जीत तब थी, जब सारे सभी पार्टी की हार का दावा कर रहे थे। मैं अपने उसी पद पर बना रहना चाहता हूं। लेकिन अगर पार्टी आदेश करेगी तो मैं सामान्य कार्यकर्ता की तरह पार्टी का काम करता रहूंगा। पार्टी में उभरे असंतोष पर मनोहर सेठिया ने कहा कि हम पार्टी स्तर पर मामला सुलझा लेंगे।

झाबुआ भाजपा की प्राथमिकता में है शामिल

झाबुआ लोकसभा की सीट वो सीट है, जिसे जीतने के लिए भाजपा हर बार जमीन आसमान एक कर देती है। वर्ष 2014 के चुनाव में मोदी लहर के बीच पार्टी को यह सीट मिली भी लेकिन, वह ज्यादा दिन नहीं रह पाई। दिलीप सिंह भूरिया के निधन के बाद हुए उप चुनाव में कांग्रेस ने इस सीट पर अपनी धमाकेदार वापसी की। झाबुआ जिले की सभी विधानसभा सीटों को भाजपा हर हाल में जीतना चाहती है। स्थानीय इकाई में उभरे असंतोष ने पार्टी की मुश्किलें बढ़ा दी हैँ।

About admin

Check Also

भारतीय फुटबॉल टीम इंडोनेशिया के खिलाफ जीत दर्ज करके 16 साल बाद इतिहास दोहराना चाहेगी

भारत ने आखिरी बार वर्ष 2002 में एएफसी अंडर-16 चैम्पियनशिप के क्वार्टर फाइनल में प्रवेश …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *