Breaking News
Home / breaking news / पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ बेटी के साथ पाकिस्‍तान पहुँचते ही हुए गिरफ्तार

पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ बेटी के साथ पाकिस्‍तान पहुँचते ही हुए गिरफ्तार

पाकिस्‍तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरियम नवाज शरीफ को शुक्रवार को लाहौर के इंटरनेशनल एयरपोर्ट से गिरफ्तार कर लिया गया। नवाज़ तथा उनकी बेटी मरियम भ्रष्टाचार के एक मामले में दोषी करार दिये गए है। अबु धाबी से लाहौर पहुंचे नवाज शरीफ को हवाई अड्डे पर ही गिरफ्तार कर लिया गया। अबूधाबी से उनके साथ बेटी मरियम भी लाहौर पहुंची। दोनों के पासपोर्ट लेने के बाद NAB (नेशनल अकाउंटबिलिटी टीम) ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया और विशेष विमान से इस्लामाबाद ले जाया गया। नवाज शरीफ को 10 साल और उनकी बेटी को 7 साल की सज़ा हुई है। नवाज शरीफ की मां एयरपोर्ट पर उनसे मिलने के लिये पहुंची थीं लेकिन उनकी मुलाकात नहीं हो सकी।

पाकिस्‍तान आने से पहले अबु धाबी पहुंचे नवाज शरीफ ने मीडिया से बात की। नवाज़ शरीफ ने पाकिस्तान आते वक्त विमान में ही कहा, “मैं अपनी पत्नी को बेहोशी की हालत में छोड़कर आया हूं। ज़ाहिर है, मैं एक उद्देश्य लेकर पाकिस्तान लौट रहा हूं, जनता मेरा उद्देश्य जानती है। प्रेस को भी एक स्टैंड लेना चाहिए। मैं किन्हीं भी हालात के लिए तैयार हूं। मुझे लाहौर में गिरफ्तार किया जा सकता है।

नवाज़ के बारें में कुछ बातें

मोहम्मद नवाज शरीफ तीन बार पाकिस्तान के प्रधानमंत्री रह चुके हैं। सबसे पहले एक नवंबर 1990 को पाक के 12 वें प्रधानमंत्री बने थे और इस पद पर 18 जुलाई 1993 तक रहे। इसके बाद 14 वें पीएम के रूप में उनका कार्यकाल 17 फरवरी 1997 से 12 अक्टूबर 1999 तक रहा। शरीफ तीसरी बार 5 जून 2013 को पाक के 27 वें प्रधानमंत्री बने। साल 2016 में पनामा पेपर लीक मामले में शरीफ का नाम आने के बाद 2017 में सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें पीएम के पद के लिए अयोग्य करार दिया और 28 जुलाई 2017 को उन्हें प्रधानमंत्री के पद से हटाना पड़ा।

नवाज़ शरीफ को साल 2000 में तख्तापलट के बाद तत्कालीन सैन्य शासक मुशर्रफ़ ने निर्वासित कर दिया था। नवाज शरीफ का जन्म लाहौर में 25 दिसम्बर 1949 को हुआ था। वे सन 1976 में पाकिस्तान मुस्लिम लीग में शामिल हुए थे। वे साल 1980 में पाक के पंजाब प्रांत के वित्त मंत्री बन गए। सन 1981 में उन्हें पंजाब सलाहकार बोर्ड में शामिल हो किया गया। इसके बाद उनकी तत्कालीन सैन्य शासक जनरल जिया-उल-हक से नजदीकी बढ़ गई। इसी नजदीकी के नतीजे में उन्हें 1985 में पंजाब का मुख्यमंत्री बना दिया गया।

About Dinesh Gupta

Check Also

सांसदों,विधायकों के सदन के कार्यकाल के दौरान वकालत करने पर कोई रोक नहीं:सर्वोच्च न्यायालय

सर्वोच्च न्यायालय ने सांसदों और विधायकों के वकालत करने पर प्रतिबंध लगाने की मांग करने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *