Breaking News
Home / राज्य / मध्य प्रदेश / uttradhikar bhopal 1576217

uttradhikar bhopal 1576217

[ad_1]

PreviousNext

Published: Mon, 26 Feb 2018 04:08 AM (IST) | Updated: Mon, 26 Feb 2018 04:08 AM (IST)

By: Editorial Team

संबंधित खबरें

– उत्तराधिकार के तहत नृत्य नाटिका और गायन

भोपाल। नवदुनिया रिपोर्टर

भारत में पूर्व ऐतिहासिक वैदिक युग से शुरू होने वाली प्राकृतिक घटनाओं की पूजा करने की एक लंबी परंपरा है। इन्हीं परंपराओं पर एकाग्र नृत्य नाटिक ‘पृथ्वी’ में कला प्रेमियों ने सृष्टि के उद्भव को जाना समझा। चार वेदों के श्लोकों पर आधारित नाटिका में उमा रेले ने अपने शिष्यों के साथ ईश्वर के साथ पंचतत्वों की आराधना की। यह प्रस्तुति मोहिनीअट्टम, भरतनाट्यम और कथक शैली में पिरोई गई थी। जनजातीय संग्रहालय में रविवार को आयोजित ‘उत्तराधिकार’ श्रृंखला में उमा रेले की नृत्य नाटिका और स्मिता दामले मोकाशी का गायन हुआ।

मंदिरों की मूर्तियों से प्रेरित नृत्य

नृत्य-नाटिका में कलाकारों ने ‘पंचतत्व’ के बारे में नृत्य के जरिए बताया। इसमें उन्होंने पृथ्वी की उत्पत्ति की कथा प्रस्तुत की। ब्रह्मांड की उत्पत्ति और चारों ऋ तुओं की व्याख्या, मानव उत्पत्ति की कथा कलाकारों ने प्रस्तुत की। अंत में प्राचीन मंदिरों में पाई जाने वाली मूर्तियों से प्रेरित ताल प्रधान नृत्य ‘तिल्लान’ से मानव और पृथ्वी के बीच रिश्ते का सुंदर दृश्य प्रस्तुत कर कार्यक्रम का समापन किया। प्रस्तुति में उमा के साथ शिष्या वैदेही रेले, तृषा पंचाल, उन्नति अजमेरा, मिताली, नयना प्रकाश, निकिता संत, प्रिय मुले, धनश्री गुंजल ने सहयोग किया।

पहाड़ी में सुनाया मीरा भजन

इसके पूर्व इंदौर की स्मिता दामले मोकाशी ने गायन की शुरुआत राग यमन विलंबित एक ताल में बड़ा ख्याल की बंदिश ‘देवो दान मोहे…’ से की। इसके बाद मध्यम लय में तीन ताल में दु्रत तराना ‘मनवा मोरा मानत नाही…’पेश किया। पहाड़ी में मीरा का भजन ‘फाल्गुन के दिन चार…’ और ‘होरी रंगी साडी गुलाबी चुनरिया…’से गायन का विराम दिया। स्मिता दामले मोकाशी के साथ गायन में श्रुति कालवे, सुधांशु कुलकर्णी ने सहयोग किया। उनके साथ तबले पर मनीष करवड़े, हारमोनियम पर जीतेन्द्र शर्मा और मंजीरा पर समर्थ मोकाशी ने संगत दी।



[ad_2]
Source link

About admin

Check Also

मध्यप्रदेश में हर्षोल्लास उत्साह के साथ देश की आज़ादी का जश्न मनाया गया

आज 15 अगस्त 2018 को देश का 72 वा स्वतंत्रता दिवस मनाया जा रहा है। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *