Breaking News
Home / राज्य / मध्य प्रदेश / चर्चा का विषय रहा दीक्षांत समारोह में राज्यपाल का न पहुंचना, विवि से बनाई दूरी

चर्चा का विषय रहा दीक्षांत समारोह में राज्यपाल का न पहुंचना, विवि से बनाई दूरी

[ad_1]

PreviousNext

Published: Sun, 25 Feb 2018 04:04 AM (IST) | Updated: Sun, 25 Feb 2018 04:04 AM (IST)

By: Editorial Team

संबंधित खबरें

भोपाल। नवदुनिया प्रतिनिधि

बरकतउल्ला विश्वविद्यालय में शनिवार को हुए दीक्षांत समारोह में राज्यपाल आनंदी बेन पटेल का न पहुंचना चर्चा का विषय बना रहा। समारोह में राज्यपाल का पहुंचना तय था लेकिन ऐन मौके पर उनका यहां आना टल गया।

राज्यपाल के समारोह में शामिल न होने को लेकर विवि के अधिकारियों-कर्मचारियों में तरह-तरह की चर्चा चलती रही। पटेल को इस कार्यक्रम की अध्यक्षता करना थी।

विभिन्न घटनाओं के चलते बनाई दूरी

विवि के अधिकारी-कर्मचारियों में यह चर्चा रही कि हाल में यहां कर्मचारियों की हड़ताल के दौरान यह चेतावनी भी दी गई थी कि कर्मचारी दीक्षांत समारोह का विरोध करेंगे। इसी के साथ पीएचडी प्रवेश परीक्षा में अंकों को लेकर अब भी विवाद चल रहा है। अभ्यर्थी प्रवेश परीक्षा की उच्च स्तरीय जांच करवाने की मांग कर रहे हैं। इसी के साथ उन्होंने इस संबंध में राज्यपाल को ज्ञापन भी दिया है। बताया जाता है कि विवि में इन्हीं सब विवादों के चलते उन्होंने दीक्षांत समारोह में हिस्सा नहीं लिया। उन्होंने इस कार्यक्रम से दूरी बना ली। यह भी कहा जा रहा है कि कई विद्यार्थी यहां काले झंडे लेकर खड़े होने वाले थे। इसी के साथ राजभवन के प्रमुख सचिव एम.राव भी कार्यक्रम में नहीं आए। मंच पर उनकी कुर्सी भी लगा दी गई थी।

आरजीपीवी में गईं थी

राज्यपाल ने हाल में राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (आरजीपीवी) में आयोजित चांसलस स्कॉलरशिप वितरण कार्यक्रम में हिस्सा लिया था। उन्होंने यहां अपना वक्तव्य दिया था। इधर, बीयू के अधिकारियों को पूरी उम्मीद थी कि वे यहां आएंगी पर उनका न आना सभी के लिए चर्चा का केंद्र रहा।

—–

राजभवन ने मांगा जवाब

बरकउल्ला विश्वविद्यालय में हुई पीएचडी और एमफिल प्रवेश परीक्षा में 80 फीसदी से भी ज्यादा छात्र फेल हो गए थे। अभ्यर्थियों ने इस मामले में उच्च स्तरीय जांच और परीक्षा निरस्त तक करने की मांग कर दी थी। सूत्रों के मुताबिक इस पर राजभवन में बीयू से जवाब मांगा है। इसके लिए शुक्रवार देर रात तक इस मामले में जवाब तैयार होता रहा। विवि को इस पर स्पष्टीकरण देना होगा कि परीक्षा में यूजीसी के नियमों का पालन हुआ या नहीं। इसी के साथ अभ्यर्थियों ने जो आरोप लगाए हैं उस पर भी जवाब मांगा गया है।



[ad_2]
Source link

About admin

Check Also

व्यापमं घोटाला: कमलनाथ और कपिल सिब्बल पहुंचे भोपाल कोर्ट,आज होगी पैरवी

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की ओर से व्यापमं घोटाले में जिला अदालत में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *