Breaking News
Home / राज्य / आन्ध्र प्रदेश / मध्यप्रदेश को भ्रष्टाचार मुक्त, गरीबी मुक्त, गंदगी मुक्त, आतंकवाद मुक्त बनाने का संकल्प

मध्यप्रदेश को भ्रष्टाचार मुक्त, गरीबी मुक्त, गंदगी मुक्त, आतंकवाद मुक्त बनाने का संकल्प

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर राजधानी के मोतीलाल नेहरु स्टेडियम (लाल परेड मैदान) में ध्वजारोहण करने के बाद कहा कि प्रदेश को गरीबी और भ्रष्टाचार मुक्त राज्य बनाना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्र को लेकर यह सरकार आगे चल रही है।  लाल परेड मैदान में आयोजित भव्य समारोह में चौहान ने कहा कि, “प्रदेश को दुनिया का उत्तम राज्य बनाना है। राज्य को भ्रष्टाचार मुक्त, गरीबी मुक्त, गंदगी मुक्त, आतंकवाद मुक्त बनाने के प्रयास जारी हैं। गरीबों के कल्याण की अनेक योजनाएं चल रही हैं, स्वच्छता के मामले में राज्य ने बड़ी उपलब्धि हासिल की है, भ्रष्ट अफसरों की संपत्ति कुर्क की जा रही है और चंबल सहित अन्य इलाकों को डकैत विहीन कर दिया गया है।” चौहान ने आगे कहा कि राज्य में सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है। वर्ष 2018 के अंत तक 500 की आबादी वाले गांव को सड़क से जोड़ने का संकल्प है। सिंचाई के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव आया है, राज्य की विकास दर दहाई में चल रही है। चौहान के मुताबिक, पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जन्म शताब्दी वर्ष को गरीब कल्याण वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है। इस वर्ग को सस्ते दर पर खाद्यान्न दिया जा रहा है, आवास की सुविधा दी जा रही है। राज्य में कोई परिवार ऐसा नहीं रहेगा, जिसके पास खुद का भूखंड न हो। यह योजनाएं इसलिए चलाई जा रही हैं, ताकि उन्हें गरीबी से मुक्त किया जा सके।  इससे पहले मुख्यमंत्री ने परेड का निरीक्षण किया और परेड की सलामी ली। उसके बाद रंगारंग कार्यक्रम हुए। इसके अलावा राज्य के विभिन्न स्थानों पर राज्य सरकार के मंत्रियों ने ध्वजारोहण किया और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के संदेश का वाचन किया। राज्य का हर हिस्सा स्वाधीनता दिवस के आयोजनों के रंग में रंगा हुआ है। हर तरफ भारत माता की जय और देश भक्ति के तराने गूंज रहे हैं। प्रभात फेरियां निकाली जा रही हैं। राजधानी से लेकर गांव की पंचायतों तक में तिरंगा फहराकर आजादी का जश्न मनाया जा रहा है।

 

 उत्साह और जोश के साथ राजस्थान में मनाया स्वतंत्रता दिवस का जश्न

राजस्थान में मंगलवार को पारंपरिक रूप से उत्साह और जोश के साथ स्वतंत्रता दिवस का जश्न मनाया गया। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने यहां स्वामी मानसिंह स्टेडियम में राष्ट्रीय ध्वज फहराया और अपने भाषण में सरकार की नीतियों पर प्रकाश डाला। मुख्यमंत्री ने कहा, “राज्य में सड़क नेटवर्क सहित मूलभूत सुविधाओं में सुधार के लिए विभिन्न कदम उठाए जा रहे हैं।”उन्होंने कहा कि राज्य में निवेश बढ़ाने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने शहर के निवासियों, स्कूली बच्चों और अन्य लोगों के एक बड़े जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा, “2015 में हमने ‘रीसर्जेट राजस्थान’ का आयोजन किया था, जो बेहद सकारात्मक रहा था।” राजे ने कहा, “राज्य में शिक्षा व्यवस्था में सुधार लाने के लिए हमने कुछ दिन पहले शिक्षा महोत्सव का आयोजन किया था। इसी तरह हम रोजगार पैदा करने के लिए भी विभिन्न कदम उठा रहे हैं।”उन्होंने कहा कि राजस्थान में सूचना प्रौद्योगिकी ढांचा भी मजबूत किया जा रहा है। उन्होंने अपने भाषण में जल स्वावलंबन अभियान का भी जिक्र किया और कहा कि इससे राज्य को सूखे और बाढ़ से निपटने में मदद मिली है। उन्होंने बताया कि राजस्थान में सूखा रोकने के लिए अभियान के तहत जल संचयन और जल संरक्षण किया जा रहा है। राजे ने लोगों से ‘स्वच्छ एवं हरा राजस्थान’ अभियान शुरू करने का आग्रह किया। उन्होंने इस अवसर पर पुलिस और सरकारी अधिकारियों को सम्मानित भी किया। इस अवसर पर राज्य भर में कई सांस्कृतिक और अन्य कार्यक्रमों का भी आयोजन हुआ।

 

बाढ़ की भयावह स्थिति के बीच असम में स्वतंत्रता दिवस समारोह का जश्न मनाया

असम में बाढ़ की भयावह स्थिति के बीच मंगलवार को स्वतंत्रता दिवस समारोह का जश्न मनाया गया। राज्य में बाढ़ से 20 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 30 लाख से अधिक लोग इससे प्रभावित हुए हैं। मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने खानापारा में पशुचिकित्सा कॉलेज के परिसर में राष्ट्रीय ध्वज फहराया। उनके मंत्रिमंडल के मंत्रियों और वरिष्ठ अधिकारियों ने विभिन्न जिलों में तिरंगे फहराए। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने भ्रष्टाचार को लेकर जीरो टोलेरेंस की नीति अपनाई है ताकि सरकारी कामकाज में पारदर्शिता लाई जा सके। उन्होंने कहा, “हमारी सरकार भ्रष्टाचार के खिलाफ है और इसी के परिणामस्वरूप कई घोटालों का पर्दाफाश हुआ है। इन्हीं प्रयासों से सरकारी कामकाज में भ्रष्टाचार घटा है और पारदर्शिता बढ़ी है।”
सोनोवाल ने यह भी कहा कि उनका प्रशासन असम समझौते को लागू करने को लेकर प्रतिबद्ध है। सोनोवाल ने कहा, “नागरिकों के राष्ट्रीय पंजीकर (एनआरसी) के उन्नयन के लिए नए कदम उठाए गए हैं ताकि हम राज्य में अवैध रूप से रह रहे विदेशियों का पता लगाकर उन्हें निर्वासित कर सकें।” सोनोवाल ने भयावह बाढ़ का उल्लेख करते हुए कहा कि सरकार प्रत्येक बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के प्रभावितों की मदद के प्रयास कर रही है। स्वतंत्रता दिवस के जश्न के दौरान गुवाहाटी में हजारों की संख्या में लोग साइकिल, मोटरसाइकिल से झंडा लहराते हुए सड़कों पर उतरे। राज्य में बीते कुछ दिनों से बाढ़ की वजह से 25 जिलों के 3,000 से अधिक गांव जलमग्न हो गए हैं।

 

 बिहार में स्वतंत्रता दिवस उमंग,हषोंल्लास वं धूमधाम के साथ मनाया

बिहार में मंगलवार को स्वतंत्रता दिवस धूमधाम एवं हषरेल्लास के साथ मनाया जा रहा है। राज्य में मुख्य समारोह पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में आयोजित किया जा रहा है, जहां राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राष्ट्र ध्वज फहराया। ध्वजारोहण के बाद मुख्यमंत्री ने राज्य के लोगों को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने सरकार के सात निश्चयों सहित कई विकास योजनाओं की चर्चा की तथा न्याय के साथ विकास पर बल देते हुए कहा कि बिहार विकास के पथ पर आगे बढ़ रहा है।
उन्होंने बिहार में अचानक आई बाढ़ की चर्चा करते हुए कहा कि राज्य के खजाने पर पहला हक आपदा प्रभावित लोगों का है। उन्होंने कहा कि आपदा प्रभावित लोगों की हर संभव सहायता की जाएगी। उन्होंने कहा कि राज्य में अचानक आई बाढ़ से काफी नुकसान हुआ है। उन्होंने बिहार में शराबबंदी की चर्चा करते हुए कहा, “शराब सामाजिक बुराई है। समाज की खासकर महिलाओं की मांग पर शराबबंदी कानून लागू किया गया। इसके बेहतर परिणाम मिले हैं। यह संकल्प का विषय है। शराबबंदी से सरकार के राजस्व में मात्र एक हजार करोड़ रुपये की कमी आई है, जबकि लोगों को इससे काफी लाभ हुआ है।”उन्होंने सरकार के सात निश्चयों की चर्चा करते हुए कहा कि बिजली के क्षेत्र में लगातार सुधार हो रहा है। उन्होंने कहा कि इस साल के अंत तक सभी गांवों में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है जबकि अगले साल दिसंबर तक सभी घरों में बिजली पहुंचा दी जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रत्येक घर तक स्वच्छ जल पहुंचे, इसके लिए भी काम चल रहा है। बिहार में पर्यावरण संतुलन बनाने के लिए युवाओं से आगे आने की अपील करते हुए नीतीश ने कहा कि पृथ्वी मनुष्य की सभी आवश्यकताओं की पूर्ति करने में सक्षम है, लेकिन अत्यधिक लालच बुरी बात है। उन्होंने भागलपुर में सरकारी राशि के फर्जीवाड़े की चर्चा करते हुए कहा कि इस मामले की जांच चल रही है। उन्होंने लोगों को आश्वस्त करते हुए कहा कि समाज में ऐसे भी चंद लोग हैं, जो लालच में फंसे हुए हैं। उन्होंने कहा कि इस मामले में जो भी लोग दोषी पाए जाएंगे, उन्हें किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कई घोषणाएं भी की। ध्वजारोहण से पहले मुख्यमंत्री ने परेड का निरीक्षण किया। सजे धजे जवानों की परेड आकर्षण का केंद्र रही। इस मौके पर राज्य के कई मंत्री, वरिष्ठ अधिकारी सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित रहे। मुख्यमंत्री के संबोधन के बाद रंगा-रंग झांकियों के माध्यम से शराबबंदी और स्वच्छता के सार्थक संदेश दिए गए। इससे पहले मुख्यमंत्री ने पटना के कारगिल चौक पहुंचकर शहीदों को श्रद्धांजलि दी और उन्हें नमन किया। इसके अलावा, राज्य के विभिन्न सरकारी और निजी संस्थानों व राजनीतिक पार्टी के कार्यालयों में भी स्वतंत्रता दिवस के मौके पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया और समारोह आयोजित किए गए। स्वतंत्रता दिवस को लेकर राज्यभर में सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं।

महाराष्ट्र में पूरे जोश और उत्साह से स्वतंत्रता दिवस मनाया

महाराष्ट्र में मंगलवार को पूरे जोश और उत्साह से स्वतंत्रता दिवस मनाया गया। हालांकि, मुंबई और तटीय कोंकण क्षेत्र सहित राज्य के कुछ हिस्सों में भारी बारिश के कारण कार्यक्रमों में व्यवधान उत्पन्न हुआ। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने अपने निवास स्थान पर और मंत्रालय के पास राष्ट्रीय ध्वज फहराया। राजभवन के एक अधिकारी के मुताबिक, महाराष्ट्र और तमिलनाडु के राज्यपाल सी.वी. राव इस वर्ष इस खास दिन चेन्नई में रहेंगे, जहां वह स्वतंत्रता दिवस के विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेंगे।बंबई उच्च न्यायालय, मध्य रेलवे, पश्चिमी रेलवे और कोंकण रेलवे के मुख्यालयों और छत्रपति शिवाजी महाराज इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर ध्वजारोहण समारोह आयोजित किए गए। राज्य के स्कूलों, कॉलेजों, आवासीय परिसरों, विभिन्न राज्य और केंद्र सरकार के कार्यालयों, निजी कंपनियों, गांवों, सामाजिक और सांस्कृतिक संगठनों, कॉर्पोरेट कार्यालयों और अन्य स्थानों पर राष्ट्र गान के साथ तिरंगा फहराया गया। मुंबई और राज्यभर में कई स्थानों पर स्वतंत्रता दिवस के मौके पर विशेष कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है।

कर्नाटक में  विद्यालयों और कॉलेजों में भी स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम

कर्नाटक में मंगलवार को कड़ी सुरक्षा-व्यवस्था के बीच स्वतंत्रता दिवस का जश्न मनाया गया। बेंगलुरू में मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने तिरंगा फहराया, गॉर्ड ऑफ ऑनर का निरीक्षण किया और फील्ड मॉर्शल सैम मानेकशॉ परेड ग्राउंड में पुलिस और 40 अन्य सैन्य टुकड़ियों की सलामी ली। समारोह में 6,000 लोगों ने सिद्धरमैया के साथ राष्ट्रगान गाया। शहर भर में कई क्षेत्रों में रातभर हुई भारी बारिश के बाद हुए जलभराव कारण जाम ने कई लोगों को समारोह से दूर रहने पर मजबूर कर दिया। राज्य के कई जिलों से मिली खबरों के अनुसार, जिलों में राज्य मंत्रियों और उपायुक्तों ने ध्वजारोहण किया। हजारों विद्यालयों और कॉलेजों में भी स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम आयोजित किया गया।

 

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन.चंद्रबाबू नायडू ने तिरुपति में फहराया तिरंगा

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू ने मंगलवार को स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्रसिद्ध तिरुपति वेंकटेश्वर मंदिर के इस शहर में झंडा फहराया। मुख्य आधिकारिक समारोह ताराकरमा स्टेडियम में आयोजित किया गया, जहां मुख्यमंत्री ने परेड की सलामी ली।  उन्होंने आंध्र प्रदेश विशेष पुलिस, निषेध एवं उत्पाद शुल्क की महिला ब्रिगेड, पुलिस बैंड, भारत स्काउट्स एवं गाइड व पूर्व सैनिकों सहित पुलिस बलों के 12 दलों से सलामी ली। स्वतंत्रता दिवस के जश्न के मौके पर विभिन्न विभागों ने अपनी झांकिया प्रस्तुत की। समारोह में राज्य मंत्री, वरिष्ठ अधिकारी और जन प्रतिनिधि शामिल हुए।  पुलिस महानिदेशक एन. सम्बाशिवा राव के साथ मुख्यमंत्री ने विशेष वाहन में सवार होकर परेड का मुआयना किया। समारोह के मद्देनजर पुलिस ने कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की थी। 2014 में आंध्र प्रदेश का विभाजन होने के बाद से सरकार स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए हर साल विभिन्न शहरों का चयन कर रही है। पिछले साल स्वतंत्रता दिवस समारोह अनंतपुर में आयोजित किया गया था।

 

About admin

Check Also

मोदी ने केरल के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का किया हवाई सर्वेक्षण,500 करोड़ रुपये की दी आर्थिक मदद

केरल में हुई भयंकर बारिश और बाढ़ ने अबतक कई लोगों की जान ले ली …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *