Breaking News
Home / कॉर्पोरेट / होंडा से आगे निकली मारूति

होंडा से आगे निकली मारूति

 यात्री वाहन बाजार पर भारत में अपनी मजबूत पकड़ के साथ मारूति, होंडा को पछाड़ते हुए तेजी से आगे निकल गई है। मारूति की बाजार में कुल हिस्सेदारी लगभग 47 प्रतिशत को पार कर गई है। वहीं, टाटा मोटर्स लिमिटेड ने भी अपनी हिस्सेदारी बढ़ाते हुये होंडा कार्स इंडिया लिमिटेड से चौथा स्थान हथिया लिया है।
भारतीय बाजार में पाँच शीर्ष यात्री वाहन विक्रेताओं में पिछले तीन साल से मारुति, हुंडई मोटर इंडिया, महिंद्रा एंड महिंद्रा, टाटा मोटर्स और होंडा कायम हैं। इसमें गत 31 मार्च को समाप्त वित्त वर्ष में मारुति, हुंडई और टाटा मोटर्स की बाजार हिस्सेदारी बढ़ी है जबकि अन्य दो की कम हुई है।  वाहन निर्माता कंपनियों के संगठन सियाम द्वारा जारी किए गए ताजा आकंडों के अनुसार वर्ष 2016-17 में देश में कुल 30 लाख 46 हजार 727 यात्री वाहन बिके। इसमें मारुति की बिक्री 10.59 प्रतिशत बढ़कर 14,43,641 इकाई रही। उसकी बाजार हिस्सेदारी भी बढ़कर 47.38 प्रतिशत पर पहुँच गयी। वित्तीय वर्ष 2014-15 में उसकी बाजार हिस्सेदारी 45.01 प्रतिशत और वित्तीय वर्ष 2015-16 में 46.79 प्रतिशत रही थी।
वहीं टाटा मोटर्स की बाजार हिस्सेदारी व्2015-16 के वित्तीय वर्ष में 5.36 प्रतिशत रही थी और इस मामले में वह पाँचवें स्थान पर थी। पिछले वित्त वर्ष में उसकी बिक्री 15.45 प्रतिशत बढ़कर 1,72,504 इकाई पर और बाजार हिस्सेदारी बढ़कर 5.66 प्रतिशत पर पहुँच गयी। होंडा की बिक्री घटने का भी उसे फायदा मिला। वित्तीय वर्ष 2015-16 में होंडा की बाजार हिस्सेदारी 6.88 प्रतिशत थी। गत 31 मार्च को समाप्त वित्तीय वर्ष में यह घटकर 5.16 प्रतिशत रह गयी। इस दौरान उसकी बिक्री 18.09 प्रतिशत की गिरावट के साथ 1,57,313 इकाई पर आ गयी।
हुंडई 5,09,705 वाहन बेचकर 16.73 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी के साथ दूसरे स्थान पर रही। वित्तीय वर्ष 2015-16 में उसकी हिस्सेदारी 17.36 प्रतिशत और वित्तीय वर्ष 2014-15 में 16.17 प्रतिशत रही थी। महिंद्रा की बाजार हिस्सेदारी पिछले दो वित्त वर्ष में लगातार घटी है। वर्ष 2014-15 में यह 8.61 प्रतिशत, 2015-16 में 8.47 प्रतिशत और 2016-17 में 7.75 प्रतिशत दर्ज की गयी। हालाँकि, वह लगातार तीसरे स्थान पर बनी हुई है। बीते वित्त वर्ष उसकी बिक्री 0.07 प्रतिशत की गिरावट के साथ 2,36,130 इकाई पर आ गयी।

About admin

Check Also

सांसदों,विधायकों के सदन के कार्यकाल के दौरान वकालत करने पर कोई रोक नहीं:सर्वोच्च न्यायालय

सर्वोच्च न्यायालय ने सांसदों और विधायकों के वकालत करने पर प्रतिबंध लगाने की मांग करने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *