Breaking News
Home / देश / महिलाओं के शारीरीक आकार को लेकर विवादों में सीबीएसई पाठ्यक्रम

महिलाओं के शारीरीक आकार को लेकर विवादों में सीबीएसई पाठ्यक्रम

सीबीएसई स्कूलों में 12वीं में पढ़ाई जाने वाली फिजिकल एजुकेशन की किताब में महिलाओं के शारीरीक आकार के बारे में जानकारी दी जा रही है।

कक्षा 12वीं की शारीरिक शिक्षा की किताब में 36-24-36 को महिलाओं के शरीर के लिए सबसे अच्छे आकार के तौर पारिभाषित किए जाने को लेकर सोशल मीडिया पर लोगों में आक्रोश है। आलोचक किताब से इसे हटाने की मांग कर रहे हैं। यह वाकया ऐसे समय सामने आया है जब पाठ्यक्रमों और स्कूलों में प़़ढाई जा रही सामग्री की जांच की कमी को लेकर बहस होती रही है।

डॉ. वीके शर्मा की लिखी और दिल्ली स्थित न्यू सरस्वती हाउस प्रकाशन की ‘हेल्थ एंड फिजिकल एजुकेशन’ शीर्षक वाली किताब सीबीएसई से संबद्ध विभिन्न स्कूलों में प़़ढाई जाती है। सीबीएसई ने हालांकि स्पष्ट किया है कि उसने, अपने स्कूलों में निजी प्रकाशकों की किसी भी किताब की अनुशंसा नहीं की है। किताब के पाठ फिजियोलॉजी एंड स्पो‌र्ट्स के एक अंश में कहा गया है, ‘महिलाओं के 36-24-36 आकार को सबसे अच्छा माना जाता है। यही वजह है कि मिस व‌र्ल्ड या मिस यूनिवर्स प्रतियोगिताओं में इस तरह के शरीर के आकार का भी ध्यान रखा जाता है।’

सोशल मीडिया पर किताब का यह अंश वायरल हो रहा है। ट्विटर पर विभिन्न यूजर्स ने तस्वीरें साझा कर इस अंश का जिक्र किया और मांग की कि प्रकाशक इस सामग्री को वापस ले और स्कूलों के पाठ्यक्रम से यह किताब हटाई जाए। निजी प्रकाशक की किताब लेने में सावधानी बरतें सीबीएसई ने एक बयान में कहा, विद्यालयों से यह उम्मीद की जाती है कि वह किसी निजी प्रकाशक की किताब का चयन करते समय बेहद सावधानी बरतेंगे और सामग्री की जांच जरूर की जानी चाहिए। जिससे ऐसी किसी भी आपत्तिजनक चीज को हटाया जा सके जिससे किसी वर्ग, समुदाय, लिंग, धार्मिक समूह की भावनाएं आहत हों। स्कूलों को अपने द्वारा निर्धारित किताब की सामग्री की जिम्मेदारी लेनी होगी।

लोकसभा में मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री उपेंद्र कुशवाहा बता चुके हैं कि सीबीएसई के पास निजी प्रकाशकों की किताबों की गुणवत्ता मापने का कोई तंत्र नहीं है। साथ ही ऐसी किताबों को लागू करने या उनकी सिफारिश का अधिकार भी नहीं है। पहले भी रही विवादित सामग्री सीबीएसई पाठ्यपुस्तक में विवादित सामग्री होने का यह हालांकि पहला मामला नहीं है।

About admin

Check Also

बेचैन प्रधानमंत्री ने लाल किले से बताया कि चार साल में देश कैसे बदला

स्वतंत्रता दिवस की 72 वीं वर्षगांठ पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने चार साल की अपनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *