Breaking News
Home / top news / झूठ व अफवाह के लिए माफी मांगें मोदी : मनमोहन

झूठ व अफवाह के लिए माफी मांगें मोदी : मनमोहन

नई दिल्ली,  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आरोपों से ‘बुरी तरह आहत’ पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर गुजरात चुनाव जीतने की हताशा में ‘झूठ और अफवाह’ फैलाने का आरोप लगाया और उन्हें ‘देश से माफी मांगने’ के लिए कहा। मनमोहन ने तल्ख बयान में मोदी द्वारा उन पर लगाए गए आरोप से इनकार किया है जिसमें कहा गया था कि उन्होंने (मनमोहन ने), पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी, पूर्व सेना प्रमुख जनरल दीपक कपूर व अन्य ने कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर के घर में रात्रि भोज के दौरान पाकिस्तानी राजनयिकों से गुजरात चुनाव पर चर्चा की थी।

पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा, “राजनीतिक लाभ लेने के लिए मोदी द्वारा झूठ व अफवाह फैलाने से मुझे गहरी पीड़ा हुई है और मैं बहुत आहत हूं।”

उन्होंने कहा, “गुजरात में हार के डर से, प्रधानमंत्री में हर एक को गाली देने का उतावलापन दिखाई दे रहा है और वह इसके लिए हर हथकंडा अपना रहे हैं।”

मनमोहन सिंह ने कहा, “दुर्भाग्यवश और खेदजनक ढंग से, मोदी अपनी अतिलोभी महत्वाकांक्षा को पूरा करने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री और सेनाध्यक्ष समेत हर संवैधानिक कार्यालय को कलंकित करने की इच्छा के चलते एक गलत परंपरा पेश कर रहे हैं।”

मनमोहन सिंह ने यह बयान मोदी द्वारा मणिशंकर अय्यर के घर में उनके, पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, जनरल कपूर द्वारा भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त व पूर्व पाकिस्तानी विदेश मंत्री खुर्शीद कसूरी व अन्य के साथ गुजरात चुनाव पर चर्चा करने का आरोप लगाने के बाद दिया। मोदी ने आरोप में संकेत दिया था कि कांग्रेस गुजरात चुनाव जीतने के लिए पाकिस्तानियों के साथ साजिश कर रही है।

मोदी ने कहा था, “एक तरफ पाकिस्तान सेना के पूर्व डीजी गुजरात चुनाव में बाधा डाल रहे हैं और दूसरी तरफ पाकिस्तानी लोग मणिशंकर अय्यर के घर में बैठक कर रहे हैं।”

मणिशंकर अय्यर के घर में शामिल मेहमानों में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व विदेश मंत्री के.नटवर सिह, पूर्व विदेश सचिव सलमान हैदर, पाकिस्तान में भारत के पूर्व उच्चायुक्त टी. सी. ए. राघवन, सतीन्द्र के. लांबा, शरद सबरवाल, एम.के भद्रकुमार और संयुक्त राष्ट्र में भारत के पूर्व स्थायी प्रतिनिधि सी.आर. घारेखान उपस्थित थे।

अन्य मेहमानों में शिक्षाविद् कांती वाजपेयी, पत्रकार प्रेम शंकर झा, अजय शुक्ला और राहुल सिंह भी शामिल थे।

मनमोहन सिंह ने कहा, “मैं फैलाए गए झूठ और अफवाह से इनकार करता हूं क्योंकि जैसा कि मोदी ने आरोप लगाया है, मैंने अय्यर के घर में रात्रि भोज के दौरान किसी से भी गुजरात चुनाव के संबंध में चर्चा नहीं की। रात्रि भोज में मौजूद किसी ने भी गुजरात चुनाव का मुद्दा नहीं उठाया था।”

उन्होंने कहा, “बैठक में चर्चा भारत-पाकिस्तान संबंध तक सीमित थी।”

मनमोहन ने कहा, “कांग्रेस को एक ऐसी पार्टी व प्रधानमंत्री से राष्ट्रवाद सीखने की कोई जरूरत नहीं है जिसके आतंकवाद से लड़ने के समझौते भरे ट्रैक रिकार्ड से सभी वाकिफ हैं।”

पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा, “मुझे बताने दीजिए कि वह (मोदी) उधमपुर और गुरदासपुर आतंकवादी हमले के बाद बिना निमंत्रण के पाकिस्तान गए थे। उन्हें पाकिस्तान की ओर से किए गए आतंकवादी हमले के बाद हमारे रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण शिविर पर पाकिस्तानी खुफिया संस्था आईएसआई को बुलाने का कारण भी बताना चाहिए।”

मनमोहन ने कहा, “मैं गंभीरता से यह उम्मीद करता हूं कि प्रधानमंत्री कटु व्यंगों पर अपना ध्यान केंद्रित करने के बदले अपने पद की गरिमा बरकरार रखने के लिए परिपक्वता व संजीदगी दिखाएंगे।”

उन्होंने कहा, “मैं गंभीरता से यह उम्मीद करता हूं कि वह अपने पद की गरिमा को बनाए रखने के लिए देश से माफी मांगेंगे।”

कांग्रेस ने भी ‘पाकिस्तान के साथ मिलकर गुजरात चुनाव के लिए साजिश रचने’ का आरोप लगाने पर भाजपा से माफी की मांग की।

कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने मीडिया से कहा, “यह कोई खुफिया बैठक नहीं थी..प्रधानमंत्री ने इसे एक भयावह और सनसनीखेज रूप दे दिया। प्रधानमंत्री को राजनीतिक चर्चा का स्तर बनाए रखना चाहिए और पूर्व उपराष्ट्रपति व पूर्व प्रधानमंत्री से माफी मांगनी चाहिए।”

उन्होंने कहा, “गुजरात में चुनाव के दूसरे चरण के दौरान मतदाताओं को बरगलाने के इरादे से उन्होंने भावुकता व ध्रुवीकरण का पैंतरा चला है। यह घृणित है। गुजरात का मतदाता परिपक्व है। वह इन रणनीतियों (मोदी द्वारा) को समझते हैं और दूसरे चरण के मतदान में इन्हें जवाब देंगे।”

वहीं, भाजपा ने पूछा है कि पाकिस्तानी राजदूत व पूर्व पाकिस्तानी मंत्रियों के साथ हुई ‘हश-हश’ बैठक को स्वीकारने में कांग्रेस को 48 घंटे क्यों लग गए।

भाजपा के प्रवक्ता जी.वी.एल नरसिम्हा राव ने कहा, “भारत के विदेश मंत्रालय को क्यों नहीं बताया गया? क्यों कांग्रेस नेता चीन व पाकिस्तानी राजदूत से गुप्त रूप से मुलाकात करते हैं।”

उधर, पाकिस्तान ने भी कांग्रेस नेताओं और उसके उच्चायुक्त के बीच गुप्त बैठक के आरोप से इनकार किया है और कहा है कि अपनी चुनावी चर्चा में भारत को पाकिस्तान को घसीटना बंद करना चाहिए। पाकिस्तान ने मोदी के बयान को ‘आधारहीन व गैर जिम्मेदारी भरा’ बताया।

भाजपा ने पाकिस्तान के बयान का कड़ा प्रतिवाद करते हुए कहा है कि आतंकवाद का नग्न समर्थन करने वालों से भारत को लोकतंत्र का पाठ सीखने की जरूरत नहीं है।

About Dinesh Gupta

Check Also

मेजर लीतुल गोगोई के खिलाफ सेना ने दिए कोर्ट ऑफ इनक्वायरी का आदेश

श्रीनगर के एक होटल में घटी घटना के सिलसिले में मेजर लीतुल गोगोई के खिलाफ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *