Breaking News
Home / कॉर्पोरेट / उर्जित चाहते हैं सरकारी बैंकों का विलय 
भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल चाहते हैं सरकारी बैंकों का विलय 
भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल चाहते हैं सरकारी बैंकों का विलय

उर्जित चाहते हैं सरकारी बैंकों का विलय 

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने कहा है कि यदि कुछ सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को आपस में मिला कर ऐसे बैंकों की संख्या कम रखी जाए, तो इससे भारतीय बैंकिंग प्रणाली को लाभ होगा और वसूली में फंसे कर्जोें की समस्या का सामना करन में मदद मिलेगी।
कोलंबिया विश्वविद्यालय में कोटक परिवार के नाम से जुडी एक व्याख्यान-माला के अंतर्गत एक व्याख्यान में पटेल ने कहा, ‘‘कई लोगों का कहना है कि यह स्पष्ट नहीं है कि हमेें इतने अधिक सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की जरूरत क्यों है। यदि इन बैंकों को विलय कर मजबूत बैंक बनाया जाए, तो प्रणाली बेहतर होगी।’’
उन्होंने कहा कि सामुदायिक स्तर की बैंकिंग सेवा देने के लिए कुछ सहकारी बैंक और सूक्ष्म वित्त संस्थान हैं।
ऐसे में कुछ बैंकों का विलय किया जा सकता है। पटेल ने कहा कि भारत के केंंद्रीय बैंक को बैंकिंग क्षेत्र के बडे दबाव वाले बही खातों की समस्या से जूझना पड रहा है।
उन्होंने कहा कि हाल के वर्षों में गैर निष्पादित आस्तियों :एनपीए: की समस्या से निपटने के लिए कई उपाय किए गए हैं। इसमें बैंकों की संपत्ति की गुणवत्ता का वृहद समीक्षा भी शामिल है।
पटेल ने कहा कि बैंकों के एकीकरण से ऐसी रीयल एस्टेट संपत्तियों को बेचा जा सकता है, जहां शाखाएं बेकार हो चुकी हैं।
इसके अलावा कर्मचारियों की संख्या के प्रबंधन को स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (वीआरएस) की पेशकश की जा सकती है। युवा लोगों को जोडा जा सकता है जो आज की डिजिटल जरूरत को पूरा कर सकते हैं।

About Dinesh Gupta

Check Also

नरेंद्र मोदी की सरकार को चार साल पूरे होते ही, चुनावी मूड में आयी बीजेपी

भारतीय जनता पार्टी नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार शनिवार को अपने कार्यकाल के चार साल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *